ड्रीम प्रोजेक्ट था महाभारत पर फिल्म बनाना, अब लगता है डर : आमिर खान

बॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान इन दिनों अपनी आने वाली फिल्म ‘लाल सिंह चड्ढा’ के कारण सुर्खियों में हैं। बेहद चुनिंदा फिल्में बनाने वाले आमिर खान ने लगभग 10 साल पहले यह इच्छा जताई थी कि वह हिंदू पौराणिक ग्रंथ ‘महाभारत’ को अडैप्ट कर एक बड़े स्तर की फिल्म बनाना चाहते हैं। हालांकि अभी तक आमिर खान का यह सपना पूरा नहीं हो सका है। एक हालिया इंटरव्यू में आमिर ने महाभारत पर फिल्म बनाए जाने पर फिर से बात की है।

आमिर खान को क्यों लगता है डर?
‘लाल सिंह चड्ढा’ के प्रमोशन में बिजी आमिर खान ने कहा कि महाभारत पर फिल्म बनाने से उन्हें डर लगता है। इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए उन्होंने कहा, ‘जब आप महाभारत जैसे विषय पर फिल्म बना रहे होते हैं तो आप केवल एक फिल्म नहीं बना रहे होते बल्कि एक यज्ञ कर रहे होते हैं। यह केवल एक फिल्म नहीं है बल्कि यह उससे भी एक गहरी चीज है। इसलिए मैं इसके लिए तैयार नहीं हूं। मुझे इसे सामने लाने में डर लगता है। महाभारत कभी आपको निराश नहीं करेगा लेकिन आप इसे निराश कर सकते हैं।’

बोले- कम से कम 20 साल लगेंगे
बता दें कि इससे पहले पीटीआई से बात करते हुए आमिर खान ने कहा था कि Mahabharat उनके लिए एक सपना था। आमिर ने कहा था, ‘यह मेरी दिली इच्छा है। यह बहुत बड़ा प्रोजेक्ट है। यह मेरे लिए ड्रीम प्रोजेक्ट है लेकिन अब अगर आज में इसे बनाने का फैसला लूं तो इसमें कम से कम 20 साल लग जाएंगे। इसलिए मुझे डर लगता है, अगर मैं इसके लिए हां कता हूं तो 5 साल तो केवल इसके रिसर्च में लगेंगे और उसके बाद इसे बनाना शुरू किया जाएगा। हालांकि यह विषय मुझे बहुत रोमांचित करता है।’

8-9 साल में मिले ‘फॉरेस्ट गंप’ का राइट्स
बता दें कि Laal Singh Chaddha हॉलीवुड मूवी ‘फॉरेस्ट गंप’ का हिंदी अडैप्टेशन है। Aamir Khan ने हाल में खुलासा किया था कि हॉलीवुड मूवी के राइट्स लेने में ही 8-9 साल का वक्त लग गया था। 11 अगस्त को रिलीज हो रही ‘लाल सिंह चड्ढा’ में आमिर खान के अलावा करीना कपूर खान, मोना सिंह और नागा चैतन्य मुख्य भूमिकाओं में हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper