दिल्ली-एनसीआर में कोहरे का ‘कर्फ्यू’, 25 मीटर दूर भी दिखना हुआ मुश्किल; सड़क से आसमान तक थमी रफ्तार

नई दिल्ली: दिल्ली-एनसीआर समेत आसपास के इलाकों में सर्दी का सितम लगातार जारी है। शीतलहरों से जहां शरीर सुन्न पड़ने लगे हैं, वहीं आज बेहद घने कोहरे ने लोगों की मुश्किलें और बढ़ा दी हैं। राजधानी में सोमवार सुबह भी घना कोहरा छाया रहा। कुछ जगहों पर विजिबिलिटी घटकर 25 मीटर के करीब रह गई है। विजिबिलिटी घटने के चलते धरती से आसमान तक रफ्तार पर असर पड़ रहा है। आज बेहद घना कोहरा होने के चलते सड़कों पर वाहन रेंग-रेंगकर चलते दिखे। नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम और फरीदाबाद में सोमवार को सुबह घना कोहरा देखा गया। फरीदाबाद में नेशनल हाईवे से वाहन चालक लाइट जलाकर निकलते दिखे।

मौसम विभाग के अनुसार, सोमवार सुबह राजधानी में घना कोहरा छाया रहा और न्यूनतम तापमान 3 डिग्री के सेल्सियस आसपास दर्ज किया गया है। दिल्ली में हवा की गुणवत्ता भी ‘गंभीर’ श्रेणी में पहुंच गई है। दिल्ली की वायु गुणवत्ता सोमवार सुबह ‘गंभीर’ श्रेणी में रही। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों से पता चला है कि सुबह 8 बजे प्रति घंटा वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 402 रहा। रविवार को 24 घंटे का औसत एक्यूआई 371 रहा, जो “बहुत खराब” श्रेणी में था। मौसम विभाग ने सोमवार को दिल्ली सहित उत्तर भारत के कुछ हिस्सों के लिए ‘ऑरेंज’ अलर्ट जारी किया है, जिसमें घने कोहरे, दिन में ठंड और शीत लहर की स्थिति बनी रहने की चेतावनी दी गई है।

दिल्ली में 29 ट्रेनें लेट

दिल्ली और आसपास के इलाकों में कोहरे की मोटी परत छाई रही, जिससे सड़क, रेल और हवाई यातायात प्रभावित हुआ। घने कोहरे के कारण सुबह साढ़े पांच बजे इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के पास पालम वेधशाला में विजिबिलिटी घटकर 50 मीटर के करीब रह गई। इसके चलते उड़ानें प्रभावित हो रही हैं। यात्रियों को उड़ानों के संबंध में ताजा अपडेट जानकारी के लिए संबंधित विमानन कंपनी से संपर्क करने की सलाह दी गई है। वहीं, कोहरे के कारण आज भी 29 ट्रेनें कई घंटों की देरी से चल रही हैं।

मौसम कार्यालय के मुताबिक, दृश्यता जब शून्य से 50 मीटर के बीच रह जाती है तो उस समय ‘बहुत घना’ कोहरा होता है। वहीं, 51 से 200 मीटर के बीच दृश्यता की स्थिति में ‘घना’, 201 से 500 मीटर के बीच ‘मध्यम’ और 501 से 1,000 मीटर के बीच दृश्यता की स्थिति में ‘हल्का’ कोहरा होता है। बता दें कि, रविवार सुबह भीषण शीतलहर का प्रकोप रहा। शहर के प्रमुख मौसम केंद्र सफदरजंग वेधशाला में न्यूनतम तापमान 1.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो पिछले दो साल में राष्ट्रीय राजधानी में जनवरी के महीने में दर्ज सबसे कम तापमान है।

मौसम विभाग ने लोगों को शीतलहर से बचने की सलाह देते हुए कहा है कि लंबे समय तक शीतलहर के संपर्क में रहने से ठंड लग सकती है और किसी को कंपकंपी को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए, जो इस बात का पहला संकेत है कि शरीर गर्मी खो रहा है और घर के अंदर रहना चाहिए। एडवाइजरी में कहा गया है कि विटामिन सी से भरपूर फल और सब्जियां खाएं और रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाए रखने के लिए पर्याप्त गर्म तरल पदार्थ पिएं। बाहरी गतिविधियों में शामिल होने से बचें या उन्हें सीमित करें। राजधानी दिल्ली में शीतलहर का प्रकोप बने रहने के कारण प्राइवेट स्कूलों में शीतकालीन अवकाश 15 जनवरी तक के लिए बढ़ा दिया गया है। दिल्ली सरकार के शिक्षा निदेशालय (डीओई) ने एक सर्कुलर जारी करके यह जानकारी दी। प्राइवेट स्कूल शीतकालीन अवकाश के बाद नौ जनवरी को खुलने वाले थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper