देश के प्रधान न्यायाधीश एन वी रमन्ना ने कहा- लोग न्यायपालिका के तब तक ही मित्र… जब तक पार नहीं करते सीमा

हैदराबाद: देश के प्रधान न्यायाधीश एन वी रमन्ना ने कहा कि हाल के समय में अदालत के फैसलों की गलत व्याख्या कर परपीड़ा से आनंद लेने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि उच्च पदों पर बैठे लोगों पर लांछन लगाने का चलन बढ़ रहा है। सभी लोग न्यायपालिका के तब तक मित्र हैं जब तक वे अपनी सीमा पार नहीं करते। तेलंगाना उच्च न्यायालय में 32 नए न्यायिक जिलों को आरंभ करने संबंधी समारोह में न्यायमूर्ति रमण ने अपने संबोधन में कहा कि न्यायपालिका ऐसी प्रणाली नहीं है जो कुछ वर्गों के स्वार्थी उद्देश्यों के लिए काम करे। उन्होंने कहा कि कुछ दोस्तों को यह याद रखना चाहिए कि न्यायपालिका संविधान के अनुसार हमेशा लोगों के लोकतांत्रिक अधिकारों को बनाए रखने के लिए काम करती है।

राष्ट्रीय न्यायिक इन्फ्रास्ट्रक्चर बॉडी का गठन न होने पर असंतोष
न्यायमूर्ति रमन्ना ने राष्ट्रीय न्यायिक अवसंरचना निकाय का गठन न होने पर असंतोष व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों ने मुख्यमंत्रियों और उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों के हाल ही में आयोजित संयुक्त सम्मेलन के दौरान इस संबंध में सर्वसम्मत प्रस्ताव पारित करने का अवसर खो दिया। प्रधान न्यायाधीश बनने के बाद न्यायमूर्ति रमण ने ही राष्ट्रीय न्यायिक अवसंरचना निकाय के गठन का विचार रखा था।

‘न्यायालयों के निर्णयों की गलत व्याख्या हो रही’
न्यायमूर्ति रमन्ना ने कहा, ”न्यायपालिका के लिए समाज और व्यवस्था के लाभ अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। हाल के दिनों में उच्च पदों पर बैठे लोगों को बदनाम करना आसान हो गया है। जो लोग व्यवस्था के माध्यम से अपने स्वार्थी लक्ष्यों को प्राप्त नहीं कर सके, वे न्यायालयों के निर्णयों की गलत व्याख्या कर रहे हैं जिसके माध्यम से परपीड़ा से आनंद लेने उठाने वालों की संख्या भी बढ़ रही है। यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटनाक्रम है।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper