देश में पूरा होने जा रहा है 200 करोड़ कोरोना वैक्सीन डोज का लक्ष्य, सिर्फ 1.63 लाख डोज दूर

नई दिल्ली: भारत में कोरोना के नए मामले एक बार फिर से तेजी से देश में आ रहे हैं और इसके साथ ही कयास लगाए जा रहे हैं कि कोरोना की लहर एक बार फिर से आ सकती है। हालांकि अच्छी बात यह है कि देश में अधिकतर लोगों को कोरोना की वैक्सीन लग चुकी है जिसकी वजह से अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या बहुत ही कम है। कोविन एप्लिकेशन की ओर से जो ताजा आंकड़े जारी किए गए हैं उसके अनुसार देश में अब कोरोना वैक्सीन की डोज 200 करोड़ तक पहुंचने वाली है। फिलहाल देश में कोरोना वैक्सीन की 1999836832 डोज लग चुकी हैं।

यानि 163168 कोरोना वैक्सीन की डोज और लग जाने के बाद देश में वैक्सीन की 200 करोड़ की डोज पूरी हो जाएगी। इसे भी पढ़ें- राजस्थान: धौलपुर की सब्जी मंडी में भीषण आग, 12 से ज्यादा दुकानें जलकर खाक बता दें कि देश में महज 18 महीनों के भीतर इतना बड़ा लक्ष्य हासिल किया है। देश में कोरोना टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी 2021 को हुई थी। कुल 199.7 करोड़ वैक्सीन की डोज को शनिवार रात 9 बजे तक देश में लगाया जा चुका है। इसमे 5.48 करोड़ प्रीकॉशन डोज शनिवार तक लग चुकी है। साथ ही 3.79 करोड़ कोरोना वैक्सीन की पहली डोज 12-14 साल के बच्चों को लगाई जा चुकी है। 71 फीसदी से ज्यादा वैक्सीन की डोज ग्रामीण इलाकों में लगाई जा चुकी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मंसुख मांडविया ने ट्वीट करके लिखा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में 200 करोड़ कोरोना वैक्सीन के डोज के इतिहास को बनते देख रहा हूं। अंतिम गिनती शुरू हो चुकी है। बता दें कि शनिवार को 25 लाख से अधिक कोरोना वैक्सीन की डोज लोगों को लगा ईगई है। 15 जुलाई से देश में 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को सरकारी सेंटर पर मुफ्त में वैक्सीन की तीसरी डोज लगाई जा रही है। अब भारत के आगे वैक्सीन के मामले में सिर्फ चीन है, जहां 340 करोड़ कोरोना वैक्सीन की डोज लोगों को अभी तक लगाई जा चुकी है। हालांकि चीन की वैक्सीन के बारे में कई जानकारी अभी तक सामने आ नहीं सकी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper