धनबाद में अवैध खनन के दौरान जमीन धंसी, 25-30 लोग मलबे में दबे

धनबाद: झारखंड के धनबाद में जमीन धंसने से 25-30 लोगों की मलबे में दबे होने की खबर सामने आई है। घटना जिले के ईसीएल मुगमा क्षेत्र अंतर्गत कापासारा आउट-सोर्सिंग कोलियरी की है। यहां शुक्रवार तड़के अवैध खनन के दरम्यान चाल धंस गई। 100 मीटर के दायरे में भू-धंसान हुआ है। घटना को लेकर स्थानीय लोगों में दहशत है। पूरे रास्ते में चौड़ी-चौड़ी दरारें हैं। स्थानीय लोगों के मुताबिक घटना को ढाई घंटे बीत चुके हैं लेकिन पुलिस नहीं पहुंची है। अधिकारियों ने भी सुध नहीं ली है।

मलबे में 2 दर्जन से ज्यादा लोगों के फंसे होने की आशंका है लेकिन स्थानीय प्रशासन फिलहाल इस बात से इनकार कर रहा है। किसी के भी मौत की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। गौरतलब है कि यहां जामताड़ा और पुरुलिया सहित अन्य जगहों से मजदूर आते हैं और मोटी मजदूरी के बदले अवैध खनन करते हैं। कहा जा रहा है कि कोलियरी प्रबंधन हादसे को छुपाने की कोशिश कर रहा है। हादसे के बाद बने गोफ की भराई का काम शुरू कर दिया गया है। बता दें कि धनबाद में जमीन धंसने की ये पहली घटना नहीं है। घटना से जुड़ा वीडियो भी सामने आया है जिसमें दूर तक जमीन में मोटी-मोटी दरारें दिख रही हैं। दरार से धुआं निकल रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper