धन-पैसा-संपत्ति पाने के लिए तुरंत अपने गार्डन में लगाएं ये 5 पौधे, चमक उठेगी किस्मत

Vastu Tips, Lucky Plants For Home: कुछ साल पहले तक घरों में पेड़-पौधे (Plants) लगाना फैशन माना जाता था। लेकिन अब ज्यादातर लोग अपने घरों की खूबसूरती को बढ़ाने के लिए पेड़-पौधे लगाते हैं। पेड़ पौधे घरों और गार्डन की खूबसूरती बढ़ाने के साथ ही हमारे आसपास के वातावरण को भी सुरक्षित बना देते हैं और मन को सुकून प्रदान करते हैं। इसी कारण से आजकल लोग सिर्फ आउटडोर प्लांट्स ही नहीं बल्कि इंडोर प्लांटिंग भी करने लग गए हैं। कुछ पौधे ऐसे भी हैं जिनको वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra) में बहुत ही अच्छा बताया गया है। ऐसी मान्यता है कि इन पेड़-पौधे को घर में लगाने से बरकत और सुख-समृद्धि रहती है। ऐसे में आप चाहें तो इन्हें घर में लगाकर अपने घर की खुशियों को बरकरार रख सकते हैं।

मनी प्लांट
मनी प्लांट को लेकर मान्यता है कि पौधा जितना तेजी से फैल जाता है उतनी ही घर में धन और समृद्धि आने लग जाती है। उसे हमेशा घर के आग्नेय दिशा यानी कि दक्षिण पूर्व दिशा में लगाएं। ऐसा करने पर सकारात्मकता आने लगती है और घर के मुखिया की चिंताएं कम होने लग जाती है।

अनार का पौधा
इस पौधे को घर में लगाने से कर्जे से मुक्ति मिलती है। ध्यान रहे घर की इसे आग्नेय कोण या दक्षिण-पश्चिम दिशा में न लगाए।

दूब का पौधा
अगर आपको काफी लंबे समय से संतान की प्राप्ति नहीं हो रहीं हैं, तो आप घर में दूब का पौधा लगा सकते हैं। ऐसी मान्यता है कि रोजाना इसमें जल चढ़ाएं और दूब तोड़कर गणपत‍ि बप्‍पा को अर्पित करें। ऐसा करने से आपकी सभी मनोकामएं बहुत जल्द ही पूरी हो जाएगी। इसके साथ ही आपके घर में कभी सुख-संपत्ति की कमी नहीं होगी।

बेल का पौधा

वास्तु में बेल के पेड़ को भी शुभ माना गया है। धार्मिक मान्यता है कि इस पेड़ में भगवान भोलेशंकर का वास होता है।

बांस का पौधा
बांस के पौधे को घर में लगाना बहुत ही शुभ बताया गया है। अगर इसे ईशान कोण यानी कि उत्तर-पूर्व या फिर उत्तर दिशा में लगा दिया जाए तो घर में पैसों की बरसात होने लगती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper