नौकरीपेशा लोगों को जो खुशखबरी चाहिए थी वो बजट से पहले आ गई! सैलरी बढ़ने को लेकर सामने आई ये बात

नई दिल्ली. एक तरफ जहां लोगों की नौकरियां जा रही हैं और कई कंपनियां छंटनी कर रही है, उसी बीच लोगों के लिए खुशखबरी सामने आई है. दरअसल, एक सर्वे में जानकार सामने आई है कि भारतीय कंपनियां इस साल सैलरी में इजाफा कर सकती है. सर्वे का कहना है कि भारतीय कंपनियां इस साल वेतन में औसतन 9.8 फीसदी का इजाफा कर सकती है. पिछले वर्ष 2022 में यह 9.4 प्रतिशत की वृद्धि से थोड़ा अधिक है. कोर्न फेरी के सर्वे के अनुसार शीर्ष प्रतिभाओं के लिए सैलरी में बढ़ोतरी ज्यादा हो सकती है.

सर्वे में लगभग 8 लाख से अधिक कर्मचारियों वाले 818 संगठनों को शामिल किया गया था. इस सर्वेक्षण के अनुसार 2023 में भारत में वेतन में 9.8% का इजाफा होने का अनुमान है. बता दें कि महामारी वाले साल 2020 में वेतन वृद्धि 6.8 फीसदी से काफी कम थी. हालांकि मौजूदा परिस्थिति बेहतर संकेत दे रही है. इस बीच भारत के बढ़े हुए डिजिटल क्षमता निर्माण पर ध्यान दिए जाने के अनुरूप, सर्वे में जीवन विज्ञान और स्वास्थ्य देखभाल और उच्च तकनीकी क्षेत्रों में क्रमशः 10.2 प्रतिशत और 10.4 प्रतिशत तक की वृद्धि का अनुमान लगाया गया है.

कोर्न फेरी के अध्यक्ष और क्षेत्रीय प्रबंध निदेशक नवनीत सिंह का कहना है कि दुनिया भर में मंदी और आर्थिक नरमी की चर्चा हो रही है, लेकिन भारतीय अर्थव्यवस्था के संदर्भ में जीडीपी के छह प्रतिशत की दर से आगे बढ़ने का आशा की जा रही है.

सिंह का कहना है कि प्रमुख प्रतिभाओं के लिए वेतन वृद्धि 15 प्रतिशत से 30 प्रतिशत तक भी हो सकती है. कुछ अन्य क्षेत्रों के लिए यह वेतन वृद्धि अलग-अलग हो सकती है. जैसे सेवा क्षेत्र के लिए 9.8%, वाहन के लिए 9%, केमिकल के लिए 9.6%, उपभोक्ता सामान के लिए 9.8% और खुदरा क्षेत्र में 9% होने का अनुमान है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper