पोलैंड में मिसाइल गिरने से दो लोगों की मौत, रूस ने किया खंडन, नाटो ने बुलाई आपातकालीन बैठक

 


वारसॉ। रूस द्वारा यूक्रेन पर दागी मिसाइलें पोलैंड में जा गिरी। जिसमें दो लोगों को अपनी जान गवानी पड़ी। हालांकि, अब ये मामला तूल पकड़ता जा रहा है। पोलैंड सरकार ने इस पूरे घटनाक्रम पर रूसी राजदूत को तलब किया है। पोलैंड ने दावा करते हुए है कि रूस द्वारा निर्मित मिसाइलें उनके देश में गिरी है, जिससे दो नागरिकों की मौत हो गई है।

पोलैंड के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लुकाज जसीना ने इस घटना पर तत्काल विस्तृत स्पष्टीकरण की मांग की है। विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि 15 नवंबर 2022 को एक और घंटे तक यूक्रेन के पूरे क्षेत्र पर रूसी सेना द्वारा भारी गोलाबारी की गई। मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि दोपहर 3:40 बजे रूस निर्मित एक मिसाइल ने पोलैंड गणराज्य के दो नागरिकों की जान ले ली।

वहीं, विदेश मामलों के मंत्री प्रोफेसर जबिन्यू राउ ने रूस के राजदूत को तलब किया है उन्होंने घटना पर तत्काल और विस्तृत स्पष्टीकरण की मांग की है। पोलैंड की मीडिया के अनुसार, 15 नवंबर को यूक्रेन की सीमा से लगे लुबेल्स्की प्रांत में दो मिसाइलें गिरी थी। हालांकि, रूसी रक्षा मंत्रालय ने इन रिपोर्टों को खारिज करते हुए कहा कि उसकी सेना ने यूक्रेन-पोलैंड सीमा क्षेत्र को निशाना बनाते हुए कोई हमला नहीं किया है।

वहीं, पोलैंड के राष्ट्रपति आंद्रेज डूडा और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने पूर्वी पोलैंड में हुए विस्फोट पर बातचीत की। राष्ट्रपति जो बाइडन ने ट्वीट कर लिखा कि मैंने पोलैंड के राष्ट्रपति आंद्रेज डूडा से बात की और पूर्वी पोलैंड में हुई जान-माल की क्षति के लिए अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की और विस्फोट की जांच के लिए पोलैंड को अपना पूरा समर्थन दिया है।

इसके अलावा ब्रिटेन के पीएम ऋषि सुनक ने भी हमले पर प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि मैंने अभी विदेश सचिव और रक्षा सचिव से बात की है। हम पोलैंड में मिसाइल हमले की खबरों पर नजर बनाए हुए हैं और अपने सहयोगियों का समर्थन करेंगे। हम नाटो सहित अपने अंतरराष्ट्रीय भागीदारों के साथ भी समन्वय कर रहे हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने इंडोनेशिया में G7 और NATO नेताओं की एक आपातकालीन बैठक बुलाई है। नाटो सदस्य देश पोलैंड का दावा है कि रूस ने जो मिसाइल यूक्रेन पर दागी थी, उनमें से कुछ मिसाइल उनके क्षेत्र में गिरी। जिसमें उनके दो नागरिकों की मौत हो गई है।

अमेरिका और ब्रिटेन के अलावा नाटो ने कहा है कि वह उन खबरों की जांच कर रहा है कि क्या रूसी मिसाइलों ने पोलैंड को निशाना बनाया है। नाटो के महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने पोलैंड के राष्ट्रपति आंद्रेज डूडा के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि नाटो स्थिति पर नजर रख रहा है। कई मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि नाटो प्रमुख ब्रसेल्स में बुधवार को गठबंधन के 30 सदस्य देशों की एक आपातकालीन बैठक की अध्यक्षता करेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper