बढ़ती गर्मी के बीच दिल्ली, लंदन में खत्म हो सकता है पानी : रिपोर्ट

नई दिल्ली । ब्रिटेन और भारतीय शहर रिकॉर्ड तापमान से जूझ रहे हैं, ऐसे में क्रिश्चियन एड की एक हालिया रिपोर्ट में बताया गया है कि लंदन और दिल्ली सहित दुनिया के 10 प्रमुख शहरों में जलवायु संकट सूखे की गंभीरता को कैसे बढ़ा रहा है। जलवायु के कारण हुए नुकसान और क्षति के भुगतान के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय फंड की मांग करता है। चैरिटी ने चेतावनी दी है कि उत्सर्जन में कटौती और मीठे पानी के संसाधनों के बेहतर प्रबंधन की कार्रवाई के बिना, गरीबों द्वारा टोल को तीव्रता से महसूस किया जाएगा।

रिपोर्ट को मतदान द्वारा समर्थित किया गया है जो दर्शाता है कि यूके की जनता का मानना है कि अमीर देशों को सूखे के प्रभाव को कम करने के लिए भुगतान करना चाहिए (36 प्रतिशत), जबकि लगभग आधे (49 प्रतिशत) वयस्क अब सूखे के प्रभाव के बारे में चिंतित हैं। पृथ्वी की सतह के 70 प्रतिशत से अधिक भाग को कवर करने के बावजूद दुनिया का केवल तीन प्रतिशत पानी पीने के लिए उपयुक्त है। इस मीठे पानी में से 70 प्रतिशत ग्लेशियरों और बर्फ की टोपियों में बंद है। दुनिया भर में सभी मीठे पानी का 0.01 प्रतिशत से भी कम झीलों, नदियों और जलाशयों में मानव उपयोग के लिए उपलब्ध है।

इसके बावजूद, ईसाई सहायता विश्लेषण से पता चलता है कि 20वीं शताब्दी के दौरान वैश्विक जल उपयोग में जनसंख्या की दर से दोगुनी से अधिक वृद्धि हुई है। अभी पिछले महीने चिली की राजधानी सैंटियागो में पानी की राशनिंग हुई थी और लोग नई दिल्ली में पानी के लिए कतार में लग गए थे, जहां तापमान इतना अधिक हो गया है कि बिना कोई शारीरिक गतिविधि किए भी हीटस्ट्रोक का खतरा है।

साल 2018 में एक बड़े सूखे के बाद केप टाउन कुछ दिनों के भीतर पानी के संकट से उबरने वाला दुनिया का पहला बड़ा शहर बन गया था। ब्रिटेन में भी, लंदन ने हाल के वर्षो में हीटवेव का अनुभव किया है और पर्यावरण एजेंसी के सीईओ, जेम्स बेवन ने चेतावनी दी है कि 25 वर्षो के भीतर लंदन और इंग्लैंड के दक्षिण पूर्व में पानी खत्म हो सकता है।

लंदन की अर्थव्यवस्था के लिए एक गंभीर सूखे की लागत का अनुमान टेम्स वाटर द्वारा प्रतिदिन 330 पाउंड है, और इसके गंभीर आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय परिणाम होंगे। पर्यावरण एजेंसी ने कहा है कि 2050 तक कुछ नदियों में गर्मी के महीनों में 50-80 प्रतिशत कम पानी दिखाई देगा।

रिपोर्ट – झुलसी हुई पृथ्वी : दुनिया के 10 शहरों पर सूखे का प्रभाव – सावंत द्वारा नए मतदान के साथ प्रकाशित किया गया है, जिसे क्रिश्चियन एड द्वारा कमीशन किया गया है। डेटा से पता चलता है कि कई विकल्पों को देखते हुए ब्रिटेन की जनता की बहुलता का मानना है कि अमीर देशों को सूखे के प्रभाव को कम करने के लिए भुगतान करना चाहिए (36 प्रतिशत)। डेटा से यह भी पता चलता है कि 10 में से लगभग छह (57 प्रतिशत) लोग अपने कार्यो और सूखे के बीच संबंध देखते हैं, लेकिन 10 में से तीन (27 प्रतिशत) से कम लोग कनेक्शन देखते हैं और कार्रवाई में प्रेरित होते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper