बारिश ने खोली प्रशासन के दावों की पोल, सड़कें हुईं पानी से लबालब; लोग परेशान

अंबाला: हरियाणा में मानसून ने दस्तक दे दी है और मंगलवार को हुई थोड़ी सी बारिश ने ही अंबाला प्रशासन की पोल पूरी तरह खोल कर रख दी है. जहां विकास के बड़े-बड़े दावे किए जा रहे थे वहां पर कुछ घंटे की बारिश ने पूरे शहर को जलमग्न कर दिया. अंबाला सिटी की ज्यादातर गलियां जलमग्न पड़ी हुई है. प्रशासन ने जहां शहर में नालों की सफाई पर विशेष ध्यान दिया, वहीं गलियों और मोहल्लों की नालियों का कोई ध्यान नहीं दिया. जो गंद से भरी हुई हैं. उन्हीं की वजह से आज पूरे शहर की गलियां जलमग्न हो गई.

अंबाला शहर के कपड़ा मार्केट, नदी मोहल्ला और प्रेम नगर पानी से भरा हुआ है. इस बारे में जब अंबाला के लोगों से बात की गई तो उन्होंने कहा कि जहां प्रशासन विकास के बड़े-बड़े दावे का रहा है वहां पर आज कुछ घंटे की बारिश ने ही उनकी पोल खोल कर रख दी है. शहर की हर गली हर सड़क आज जलमग्न है. शहर की कोई भी सड़क ऐसी नहीं है जिस पर ठीक से चला जा सके और यह सब प्रशासन के दावों की पोल खोलती है. अंबाला के नुमाइंदों को विशेष तौर पर इस तरफ ध्यान देना चाहिए.

वहीं नगर निगम पार्षद मिथुन वर्मा का कहना है कि मानसून कि बरसात अभी कम हो रही है. लेकिन अंबाला सिटी कि लगभग हर गली हर सड़क मे पानी भरा हुआ है . उन्होंने कहा कि स्थानीय विधायक जी को चाहिए कि चौक चौराहो को चमकाने कि जगह एक मास्टर प्लान बनाये जिससे शहर मे पानी न भरे. उन्होंने कहा कि वो पार्षद होने के नाते अपनी जिम्मेदारी निभा रहे है और कई जगह पर पानी निकालने के लिए मोटर लगवाई हुई है .

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper