बेडरूम में भूलकर भी न रखें ये चीजें, इन चीजों के कारण ही होती है पति-पत्नी में अनबन

वास्तुशास्त्र के अनुसार दाम्पत्य जीवन में बैडरूम में रखी चीजों के कारण भी उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है । बेडरूम में रखा कुछ सामान और कुछ खास तस्वीरों से दांपत्य जीवन में परेशानियां बढ़ जाती हैं। वास्तुशास्त्र कहता है कि घर में चीजें वास्तु के अनुसार ही रखी जानी चाहिए, ऐसा करने से घर में सुख शांति बने रहती है और वैवाहिक जीवन में आनंद की अनुभूति होती है। अगली स्लाइड्स में जानते हैं कौनसी हैं वो चीजें।

एक्वेरियम के कारण सेहत पर अशुभ प्रभाव पड़ता है और दाम्प्तय संबंधो में तनाव भी बढ़ने लगता है। एक्वेरियम प्रमुख प्रवेश द्वार की के बाईं तरफ रखा हुआ होना चाहिए। आप एक्वेरियम को घर में कहीं भी और रख सकते हैं।

फ्लॉवर पाॅट से पति-पत्नी में दूरियां बढ़ती हैं। गलत जगह रखा हुआ पौधा कई बार आपके लिए अच्छा नहीं होता और वो आपके लिए आसान काम को भी मुश्किल कर सकता है। बेडरूम में किसी भी तरह का पौधा ना लगाएं, इससे वैवाहिक जीवन पर बुरा असर पड़ सकता है। घर की बालकनी में फूल लगाना सबसे अधिक शुभ माना जाता है।

बेडरूम में न हो हनुमान जी की तस्वीर। बजरंग बली की तस्वीर या मूर्ति अपने बेडरूम में नहीं लगाएं, क्योंकि हनुमान जी बाल ब्रम्हचारी हैं। हनुमान जी की तस्वीर आप घर के मुख्य द्वारा पर लगा सकते हैं। घर के मुख्य द्वार पर हनुमान जी की पंचमुखी अवतार वाली तस्वीर लगानी चाहिए, इससे घर में नकारात्मकता का प्रवेश नहीं होता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper