भारत के 6 भूतिया रेलवे स्टेशन, रात में तो कोई भी यहां नहीं रखता कदम !

भूत प्रेत जैसी चीजो के बारे में अक्सर आपने सिर्फ सुना ही होगा और कहते होंगे कि ये बकवास बाते है लेकिन दुनिया में वाकई में ऐसी ही कुछ एक जगहे है जिनके बारे में कहा जाता है कि वो होरर है वो भूतिया है और रात के वक्त तो कई जगहों पर लोग जाने से परहेज भी करते है तो चलिए फिर आपको बताते है वो जगहे आखिर कौन कौनसी है? आज हम उनमे से कुछ एक स्टेशन ढूंढकर के लाये है जिन जगहों को लेकर के ऐसी बाते कही जाती है और लोगो की अपनी अपनी मान्यताये भी है.

एमजी रोड मेट्रो स्टेशन गुरुग्राम

गुरुग्राम में स्थित मेट्रो स्टेशन एमजी रोड पर एक नही बल्कि कई बार लोगो ने अजीबो गरीब हरकते होते हुए देखी है और इस वजह से कई लोग तो जिनके साथ में ऐसी घटना हुई है वो लोग दुबारा से उस जगह पर जाने से परहेज ही करने लग गये है.

लुधियाना रेलवे स्टेशन

लुधियाना रेलवे स्टेशन का एक काउंटर है जहाँ पर बैठने वाले सुभाष की मौत हो गयी और उसकी मौत के बाद से ही उस जगह के आस पास का इलाका भूतिया हो गया और वहाँ पर कई अजीबो गरीब हरकते भी नजर आने लगती थी.

नैनी स्टेशन, उत्तर प्रदेश

नैनी स्टेशन वो जगह है जहाँ पर कई लोग आजादी की लड़ाई लड़ते हुए अपनी जान गँवा बैठे थे और इस वजह से यहाँ पर लोग मानते है कि लोगो ने कई बार इस जगह पर अलग अलग तरह की चीख पुकार भरी आवाजे भी सुनी है.

चित्तूर स्टेशन

चित्तूर स्टेशन पर एक सीआरपीएफ के जवान की रेलवे पुलिस फ़ोर्स और टीटीई ने मिलकर इतना पीटा था कि उसकी जान चली गयी और कहा जाता है आज भी उस जवान की आत्मा वहाँ पर न्याय पाने के लिए भटक रही है.

बड़ोग स्टेशन

हिमाचल में स्थित बड़ोग हिल स्टेशन के बारे में अक्सर कहा जाता है कि यहाँ पर इसी स्टेशन को बनवाने वाले अंग्रेज अफसर बड़ोग ने अपनी जान दे दी थी और उसके चलते आज भी उसकी आत्मा यही पर ही विचरण करती है.

बेगुनकोडोर, बंगाल

बंगाल में स्थित बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन कई दशको तक तो इसके भूतियापन की वजह से बंद भी रखा गया था. इस स्टेशन पर कई बार महिलाओं के साये नजर आते रहे है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper