भारत से 3 जंग लड़कर ले लिया है सबक, पीएम मोदी का नाम लेकर गिड़गिड़ाए शहबाज

नई दिल्ली। आर्थिक तंगी झेल रहा पाकिस्तान इन-दिनों राशन और रकम पाने के लिए दुनिया के कई देशों के चक्कर लगा रहा है। पाकिस्तान पीएम शहबाज शरीफ ने हाल ही में यूएई का दौरा किया। यहां एक चैनल को दिये इंटरव्यू में शहबाज ने कहा कि एटमी पॉवर वाला देश होने के बावजूद दुनिया के आगे आर्थिक मदद मांगना बेहद शर्मिंदा करने वाला है। भारत को लेकर भी शहबाज ने खुलकर बोला। वो बोले- भारत से हमने तीन युद्ध लड़े लेकिन अब पाकिस्तान सबक ले चुका है। कश्मीर राग फिर अलापते हुए शहबाज ने पीएम मोदी को अपना खास संदेश भी भेजा।

अल अरबिया चैनल के साथ इंटरव्यू को शहबाज शरीफ की पार्टी पीएमएल (नवाज) ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया है। चैनल के साथ बातचीत में शहबाज शरीफ ने कहा कि सऊदी अरब के साथ यूएई भी पाकिस्तान का बहुत अजीज दोस्त है। यूएई में कई मुसलमान लोग रहते हैं और देश की तरक्की में भागीदार हैं।

शहबाज शरीफ ने कहा कि हमने भारत से तीन युद्ध लड़े लेकिन अब पाकिस्तान सबक ले चुका है। यह हमपर निर्भर करता है कि हमे अपने संसाधनों और लोगों को युद्ध में झोंककर बर्बाद होना है या शांति पूर्वक रहकर एक-दूसरे की सहायता करते हुए खुद को मजबूत बनाना है।

शहबाज ने कश्मीर राग अलापते हुए पीएम मोदी को संदेश भी दिया। शहबाज ने कहा कि वो भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रित करना चाहते हैं कि वो एक मंच पर आए और हमारे साथ बातचीत करे ताकि कश्मीर का मुद्दा सुलझ सके। कश्मीर पर एक बार फिर प्रोपेगेंडा चलाते हुए शहबाज ने कहा कि कश्मीर में स्थानीय लोगों की जिंदगी पटरी पर लाना बेहद जरूरी है। इसके लिए हम दोनों देशों को मिलकर काम करना होगा।

शहबाज ने कहा कि वो यूएई से आर्थिक मदद लेकर काफी खुश हैं लेकिन, एक एटमी देश होकर भी दुनिया के आगे आर्थिक मदद की तरफ देखना शर्मिंदा पैदा करता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper