मशरूम गर्ल’ दिव्या रावत: नौकरी छोड़ शुरू की मशरूम की खेती, आज है 2 करोड़ रुपए का टर्नओवर

आज कल के युवा में से कुछ ही ऐसे होते है जो खेती-किसानी को अपना प्रोफेशन बनाते है क्योकि लोगो को लगता है की इस काम में ना ही नाम है और ना ही ज्यादा पैसा पर इस सोच को गलत ठरती हुई एक ऐसी लड़की है जिसने मशरूम में खेती करना शुरू किया और देखते ही देखते वो आज करोड़पति बन गई है।आज सभी इस लड़की को “मशरुम गर्ल” के नाम से जानते है और इनका नाम है दिव्या रावत।30 साल की दिव्या जिनके पिता आर्मी में थे बता दे की जब वो 12वीं कक्षा में थी, तब उनका निधन हो गया था. जिस वजह से उनकी ज़िन्दगी उतनी आसान नहीं रही थी।

अपने स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद दिव्या ने एमिटी यूनिवर्सिटी नोएडा से बीएसडब्ल्यू और एमएसडब्ल्यू की पढ़ाई की जिसके बाद उनकी नौकरी एक प्राइवेट कंपनी में लग गई और वह पर उनकी सैलरी 25 हजार रुपए महीने थी पर उन्होंने एक के बाद एक 8 नौकरियां बदलीं इसकी वजह ये ही के उन्हें अपने काम में वो संतुष्टि नहीं मिल रही थी जो वो चाहती थी।

वो कुछ अलग करना चाहती थी और इसके लिए वो साल 2011-12 में दिल्ली छोड़कर अपने गांव वापस लौट आई और कुछ इरादे से 2013 में देहरादून के मोथरोवाला में एक कमरे में मशरूम की खेती शुरू कर दी.दिव्या ने कुल सौ बैग मशरूप उगाकर अपना काम शुरू किया था और कुछ समय बाद उनका काम चले भी लगा।

उनके मशरूम की आपूर्ति दून की मंडी से लेकर दिल्ली की आजादपुर मंडी तक होने लगी थी जिसके बाद उन्होंने ट्रेनिंग टू ट्रेडिंग कॉन्सेप्ट पर काम किया और उसके तहत वो उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, और हिमाचल प्रदेश समेत देश के अलग-अलग राज्यों तक पहुंचीं और अब उनकी कंपनी के मशरूम प्रोडक्ट विदेश तक में बिक रहे हैं।

आपको ये भी बता दे की उन्हें राज्य सरकार ने ब्रांड एंबेसडर बनाया और साथ ही साल 2017 में महिला दिवस के मौके पर दिव्या को तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी उन्हें सम्मानित किया था।कभी 26 हजार की सैलरी पर काम करने वाली दिव्या आज करीब 2 करोड़ रु से अधिक का सालाना कारोबार कर रही हैं।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper