महिलाओं का भविष्य सुरक्षित करेगी एलआईसी की यह स्कीम, 58 रुपये की बचत करके इकट्ठा कर सकती हैं 8 लाख, पढ़े पूरी अपडेट

नई दिल्ली। आज हम आपको एलआईसी की एक बेहद ही शानदार स्कीम के बारे में बताने जा रहे हैं। एलआईसी की इस स्कीम का नाम आधार शिला पॉलिसी है। इस स्कीम की सबसे खास बात यह है कि इसे खासतौर पर महिलाओं को ध्यान में रखकर बनाया गया है। अगर आप अपनी छोटी बचत पर शानदार रिटर्न पाना चाहते हैं। ऐसे में आप एलआईसी की आधार शिला स्कीम में निवेश शुरू कर सकती हैं। एलआईसी आधार शिला स्कीम में निवेश करने पर आपको कई शानदार फायदे मिलते हैं। अगर आप रोजाना 58 रुपये की बचत करती हैं। ऐसे में एलआईसी आधार शिला स्कीम में निवेश करके आप मैच्योरिटी के समय एक बड़ा फंड इकट्ठा कर सकती हैं। देश में कई महिलाएं एलआईसी की इस स्कीम में निवेश कर रही हैं। इसी कड़ी में आइए जानते हैं एलआईसी आधार शिला स्कीम के बारे में विस्तार से –

अगर आप एलआईसी आधार शिला स्कीम में निवेश करने की योजना बना रही हैं। ऐसे में आपको कुछ बातों के बारे में जानना जरूरी है। एलआईसी की इस स्कीम में 8 से लेकर 55 साल की महिलाएं निवेश कर सकती हैं।

एलआईसी आधार शिला स्कीम की न्यूनतम पॉलिसी टर्म 10 साल और अधिकतम 20 साल के लिए है। इस स्कीम की परिपक्वता अवधि की अधिकतम उम्र 70 वर्ष है। स्कीम की खास बात यह है कि पॉलिसी लेने के अगर 5 साल के बाद पॉलिसी धारक की मृत्यु हो जाती है। इस स्थिति में मैच्योरिटी के समय लॉयल्टी एडिशन की सुविधा परिवार को मिलती है।

अगर आप 30 साल की आयु में इस स्कीम में हर दिन 58 रुपये की बचत करके पूरे 20 सालों तक निवेश करती हैं। ऐसे में पहले साल में कुल 21,918 रुपये जमा होंगे। इस पर आपको कुल 4.5 फीसदी का टैक्स भी देना होगा।

इसके बाद आपको दूसरे साल इस स्कीम में 21,446 रुपये का प्रीमियम भरना होगा। इस स्कीम में आप मासिक, तिमाही, छमाही या सालाना आधार पर अपने प्रीमियम को भर सकते हैं। प्रीमियम भरने के बाद आप मैच्योरिटी के समय कुल 7,94,000 रुपये इकट्ठा कर सकेंगे।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper