मेन गेट के सामने नहीं होनी चाहिए ये चीजें, करना पड़ सकता है मुसीबतों का सामना

नई दिल्ली. जीवन में सुख-समृद्धि और तरक्की कौन नहीं चाहता. लेकिन जाने-अनजाने कई ऐसी चीजें इंसान से भूलवश हो जाती हैं, जिनके कारण उसे मुसीबतों का सामना करना पड़ता है. वास्तु शास्त्र कहता है कि घर, उसके आसपास की चीजों का व्यक्ति की आर्थिक, सामाजिक और पारिवारिक जिंदगी पर अच्छा खासा असर पड़ता है. इसी से पता चलता है कि भविष्य के गर्भ में क्या छिपा है. वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर के मेन गेट के सामने कुछ चीजों का होना दुर्भाग्य को न्योता देता है. इनका बुरा असर न सिर्फ घर के मालिक बल्कि बाकी सदस्यों पर भी पड़ता है. इसलिए अगर घर के सामने ये चीजें नजर आएं तो तुरंत उनकी रोकथाम कर दें.

घर का मेन गेट खुला-खुला होना चाहिए. मेन गेट के आसपास पेड़-पौधे नहीं होने चाहिए. ये करियर में रुकावट पैदा करते हैं और बच्चों पर भी बुरा असर डालते हैं. इसलिए अगर आप नया घर खरीद रहे हैं या फिर बनवा रहे हैं तो यह जरूर देख लें कि आसपास कोई पेड़ ना हो.

घर के मेन गेट और उसके आसपास की जगह साफ होनी चाहिए. घर के बाहर कूड़ा पड़ा होना बदहाली का संकेत होता है. घरवालों पर भी ये नेगेटिव असर डालता है और उन्हें आर्थिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है.

वास्तु शास्त्र में घर को लेकर कई जरूरी बातें बताई गई हैं. ऐसा घर कभी ना लें, जिसके सामने कोई सीधा रास्ता जाता हो. कई घर ऐसे भी होते हैं, जिनके सामने रास्ता खत्म होता है. ऐसा घर उसके मालिक के लिए दुर्भाग्य लाता है और परिवार के लोगों में भी आपसी लगाव खत्म हो जाता है.

अकसर बारिश के वक्त घरों के बाहर कीचड़ या जलजमाव हो जाता है. लेकिन परेशानियों में नहीं पड़ना चाहते तो ऐसा अपने गेट के सामने ना होने दें. कीचड़-जलजमाव होने से वास्तु दोष लगता है और सदस्यों पर भी बुरा असर पड़ता है. पैसों की तंगी होने लगती है.

सुनने में थोड़ा अजीब लगे लेकिन वास्तु के मुताबिक घर के सामने मंदिर या कोई धार्मिक स्थल नहीं होना चाहिए. ऐसा होने से कोई ना कोई परेशानी लगी रहती है. व्यक्ति संकटों से घिरा रहता है. घर के सदस्य भी इससे बच नहीं पाते.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper