यह महिला गले लगने के लेती है लाखों रुपए, जादू की झप्पी का चढ़ता है कुछ ऐसा जादू

नई दिल्ली: वर्तमान में कुछ ऐसी नौकरियों के बारे में सुनने को मिलता है, जिसके बारे में हम कभी सपने में भी नहीं सोच सकते। जी हां वहीं आज के दौर में युवाओं को नौकरी पाना बेहद मुश्किल हो गया है। ऐसे में एक महिला जो काम करती है वह होश उड़ा देने वाला है। इन दिनों लोग सोशल मीडिया पर कई तरह के वीडियो बनाकर सोशल मीडिया स्टार बन जाते है और अपने वीडियो के जरिए पैसा कमाते है, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे युवती से मिला रहे है जो सिर्फ लोगों को गले लगाने से लाखों पैसा कमाती है। आइए जानते है इस महिला के बारे..

मर्दों को गले लगाती है ये खूबसूरत महिला
दरअसल हम जिस लड़की की बात कर रहे है वह ऑस्ट्रेलिया की है। जी हां एक लड़की अपने आप में एक ऐसे कमाल का हुनर ​​रखती है जिसे वह लाखों पैसे कमा रही है, और इस बात को लेकर वह सुर्खियों में है। जी हां आप सही पढ़ रहे है दरअसल यह लड़की मर्दों को गले लगाती है, लेकिन इसके लिए वह दूसरे व्यक्ति से काफी पैसे भी लेती है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि यह महिला एक लाइसेंस प्राप्त कडल थेरेपिस्ट है। दिलचस्प बात यह है कि यह खूबसूरत महिला ऑस्ट्रेलियन आर्मी में भी काम कर चुकी है।

आपको बता दें कि ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में रहने वाली इस 43 साल की महिला का नाम मिस्सी रॉबिन्सन है जो अपने खास पेशे की वजह से चर्चा में रहती हैं। मिस्सी लोगों को गले लगाने का काम करती हैं यानी कडल सेशन। आपको जानकर हैरानी होगी कि मिस्सी अपने क्लाइंट्स को गले लगाने के लिए एक रात के लिए 1.5 लाख रुपये से ज्यादा चार्ज करती हैं। मिस्सी रॉबिन्सन एक मानसिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता और लाइसेंस प्राप्त कडल थेरेपिस्ट हैं। उन्हें इस साल ‘कडल थेरेपी ऑस्ट्रेलिया’ द्वारा प्रमाणित किया गया है। मिस्सी एक घंटे के कडलिंग सेशन के लिए $150 या 12,000 रुपये चार्ज करती हैं। जरूरत पड़ने पर वह उसे अपने घर भी बुला सकती है। मिस्सी कहती हैं, ”मेरे ज्यादातर क्लाइंट्स की उम्र 20 से 50 के बीच है।”

महिला ने कहा…
“मैंने ऑस्ट्रेलियाई सेना में सेवा की है। सेना से बाहर निकलने के बाद मैं तनाव और मानसिक बीमारी से ग्रस्त हो गई । एक समय था जब मेरा वजन 60 किलो से ज्यादा हो गया था, लेकिन कड़ी मेहनत से मैंने वजन कंट्रोल में कर लिया। इसके बाद मैंने डार रिबेल कलेक्टिव नाम से एक पीआर एजेंसी शुरू की। मैं एक मानसिक स्वास्थ्य संगठन, SANE ऑस्ट्रेलिया का एक राजदूत भी हूं। मैं एक कैलेंडर लॉन्च करना चाहता हूं। “कडल थेरेपी मानसिक बीमारी का इलाज करने का सबसे अच्छा तरीका है,” मिस्सी रॉबिन्सन ने कहा।

इसलिए करती है ऐसा काम
“जब हम खुद को चोट पहुंचाते हैं या कुछ गलत हो जाता है, तो हम अपने माता-पिता में से किसी एक को गले लगाना चाहते हैं। यह मामला सभी जानते हैं। इससे हमें अच्छा महसूस होता है। अच्छा महसूस करने के लिए हमें शारीरिक स्पर्श की आवश्यकता होती है। कुल मिलाकर मेरा काम पीड़ित लोगों को ठीक करना है। मैं उन ग्राहकों के साथ अनुबंध पर हस्ताक्षर करता हूं जिनके पास मैं आलिंगन के लिए जाती हूं। ग्राहक इस अनुबंध से संबद्ध नहीं हो सकते हैं। मैं अपनी सुरक्षा के लिए हमेशा अपने साथ एक गैर-घातक हथियार रखता हूं। कभी-कभी लोग गले लगने के बाद भावुक हो जाते हैं; लेकिन यह मानव स्वभाव है, मिस्सी ने कहा।

काम की वजह से चर्चा में महिला
इस कडल थेरेपिस्ट ने यह भी दावा किया कि कई सीरियल किलर भी होते है इतने क्रूर हो गए क्योंकि उनके पास उन्हें गले लगाने वाला कोई नहीं था। मिस्सी कहती हैं, “मुझे अपनी वेबसाइट मिसीज़ वर्ल्ड पर लोगों से उन्हें गले लगाने के लिए बार-बार अनुरोध मिलते हैं।” फ़िलहाल ऑस्ट्रेलिया की यह महिला अपने इस अनोखे काम की वजह से सुर्ख़ियों में छाई हुई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper