यूक्रेन की सेना का बड़ा दावा- 9 मई तक युद्ध समाप्त करना चाहता है रूस

कीव। यूक्रेन में रूसी हमले जारी हैं। इस बीच यूक्रेनी सेना ने दावा किया है कि मास्को 9 मई तक युद्ध समाप्त करना चाहता है। कीव इंडिपेंडेंट की एक रिपोर्ट के अनुसार, यूक्रेन के सशस्त्र बलों के जनरल स्टाफ के खुफिया सूत्रों ने दावा किया है कि रूसी सैनिकों को बताया जा रहा है कि युद्ध 9 मई तक समाप्त हो जाना चाहिए। इस तारीख को रूस में व्यापक रूप से नाजी जर्मनी पर विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस बीच, यूक्रेन ने मास्को पर अपने हजारों नागरिकों को जबरन रूस ले जाने का आरोप लगाया है। उन्होंने दावा किया है कि उनमें से कुछ को “बंधकों” के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है ताकि कीव को युद्ध छोड़ने के लिए दबाव डाला जा सके।

एसोसिएटेड प्रेस की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि यूक्रेन की लोकपाल ल्यूडमिला डेनिसोवा ने कहा कि 84000 बच्चों सहित 402,000 लोगों को उनकी इच्छा के विरुद्ध ले जाया गया है। दूसरी ओर, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और पश्चिमी सहयोगियों ने यूक्रेन के लिए नए प्रतिबंधों और मानवीय सहायता का वादा किया है, लेकिन उनके प्रस्ताव अधिक मजबूत सैन्य सहायता से कम हो गए। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने एक वीडियो में यह अपील की थी।

रूस के सहयोगी बेलारूस ने तीसरे विश्व युद्ध की चेतावनी दी
बेलारूस के एक प्रमुख नेता ने आगाह किया है कि यूक्रेन में पश्चिमी शांतिरक्षक बलों को तैनात करने संबंधी पोलैंड का प्रस्ताव तीसरा विश्व युद्ध भड़का सकता है। बेलारूस के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको ने पोलैंड के पिछले सप्ताह किए गए शांति मिशन की पेशकश की ओर इशारा करते हुए गुरुवार को कहा,‘इसका मतलब तीसरा विश्व युद्ध होगा।’ बेलारूस रूस का सहयोगी है और उसने रूस को यूक्रेन पर आक्रमण करने के लिए अपने क्षेत्र का इस्तेमाल करने की अनुमति दी है। उन्होंने कहा,‘हालात बेहद गंभीर और तनावपूर्ण हैं।’

रूसी सैनिक जानबूझकर खाद्य भंडार को निशाना बना रहे
उत्तरी शहर चेर्नीहिव के एक स्थानीय सरकारी अधिकारी ने कहा है कि आबादी के लिए तबाही सामने है क्योंकि रूसी सैनिक जानबूझकर खाद्य भंडार को निशाना बना रहे हैं। इस हफ्ते एक हवाई हमले में देसना नदी पर बना पुल नष्ट हो गया, जो यूक्रेन-नियंत्रित क्षेत्र से दक्षिण में भोजन और अन्य सहायता लाने के लिए एक महत्वपूर्ण मार्ग था। शहर परिषद के सचिव ओलेक्जेंडर लोमाको ने कहा,‘इस पुल के जरिए ही मानवीय मदद, दवाइयां और भोजन शहर में आए जाते थे।’ उन्होंने हालांकि दावा किया कि शहर पूरी तरह से यूक्रेनी सैनिकों के कब्जे में है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper