रमजान के पहले सऊदी अरब में हुई ऊंट की नीलामी, लगी इतने करोड़ की बोली कि उड़ जाएंगे आपके होश

सऊदी अरब: इस्लाम का सबसे बड़ा और पवित्र महीने रमजान (Ramadan) की शुरुआत से पहले सऊदी अरब (Saudi Arabia) में एक ऊंट (Camel) की बोली जितनी लगाई गई है, उसे सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे। इस ऊंट को सऊदी अरब का अब तक का सबसे महंगा ऊंट बताया जा रहा है। एक नीलामी (Camel Auction) के दौरान इस अनुठे ऊंट (Rare Camel) की बोली सात मिलियन सऊदी रियाल यानी लगभग 14 करोड़ 23 लाख 45 हजार 462 रुपये में लगाई गई है।

सऊदी अरब के स्थानीय न्यूज पोर्टल Al Mard के अनुसार, सऊदी के सबसे महंगे ऊंटों (most expensive camel) में से एक, इस ऊंट के लिए सार्वजनिक नीलामी का आयोजन किया गया था। जिसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में देखा जा सकता है कि बोली लगाने वाला शख्स पारंपरिक पोशाक में भीड़ के बीच माइक पकड़े हुए नीलामी को होस्ट कर रहा है।

ऊंट की शुरुआती बोली 5 मिलियन सऊदी रियाल यानी 10 करोड़ 16 लाख 48 हजार 880 रुपये लगाई गई थी। लेकिन, फिर 7 मिलियन सऊदी रियाल में इस ऊंट को नीलाम कर दिया गया। हालांकि, इस महंगे ऊंट को खरीदने वाला शख्स कौन है उसकी जानकारी नहीं है।

इस वायरल वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि ऊंट को एक धातु के बाड़े के अंदर रखा गया है। उसके आसपास बहुत से लोग पारंपरिक पोशाक पहने नीलामी में शामिल हुए हैं। नीलाम किया गया ऊंट बेहद दुर्लभ माना जाता है। उसकी अलग सुंदरता और अनुठेपन के लिए यह ऊंट विख्यात है। इस प्रजाति के ऊंट बेहद कम देखने को मिलते हैं। इसी वजह से यह इतना महंगा भी है।

सऊदी अरब और ऊंटों के बीच काफी पुराना रिश्ता रहा है। सऊदी के लोगों के लिए ऊंट उनकी संस्कृति का हिस्सा हैं। ये सदियों से सऊदी के लोगों के जीवन में शामिल रहे हैं, इसी वजह से इन्हें ‘रेगिस्तान का ऊंट’ कहा जाता है। वहीं रमजान में भी ऊंट का काफी महत्व है। रमजान का पाक महीना खत्म होने के अगले दिन ईद मनाई जाती है, सऊदी अरब में ऊंटों की बलि देने की भी परंपरा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper