राष्ट्रपति भवन से चुराया सामान बेच रहे थे ‘प्रदर्शनकारी’, पुलिस ने तीन लोगों को पकड़ा

कोलंबो। श्रीलंका की पुलिस ने राष्ट्रपति भवन से चोरी किए गए सोने की परत वाले पीतल के 40 सॉकेट बेचने की कोशिश कर रहे तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। देश में गंभीर आर्थिक संकट के कारण सरकार विरोधी प्रदर्शन कर रहे लोग राष्ट्रपति के आवास में घुस आए थे। इसी दौरान यह सामान चोरी किया गया था।
सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों ने पूर्व राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के आधिकारिक आवास और पूर्व प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के निजी आवास पर नौ जुलाई को कब्जा कर लिया था। भीड़ ने विक्रमसिंघे के निजी आवास में आग भी लगा दी थी। इस दौरान प्रदर्शनकारियों की सुरक्षा बलों के साथ झड़प हुई थी। कई लोग घायल भी हुए थे।

रिपोर्ट के मुताबिक, 9 जुलाई को फोर्ट में राष्ट्रपति के आवास में प्रदर्शन के दौरान घुसने वाले तीन लोगों को सोने की परत वाले पीतल के 40 सॉकेट के साथ गिरफ्तार किया गया है। खिड़कियों पर पर्दे लटकाने के लिए ये सॉकेट दीवार पर लगाए गए थे। प्रारंभिक जांच के अनुसार, कम से कम 1,000 मूल्यवान वस्तुएं राष्ट्रपति भवन और प्रधानमंत्री के आधिकारिक आवास से चोरी की गई हैं।

वेलिकाडा पुलिस ने रविवार को इन्हें बेचने की कोशिश कर रहे संदिग्धों को गिरफ्तार कर लिया। इनकी आयु 28 साल, 34 साल और 37 साल है। पुलिस ने संदेह जताया कि इन तीनों को नशा करने की लत है। रिपोर्ट में कहा गया कि इन तीनों को कोलंबो (उत्तर) आपराधिक जांच प्रभाग को सौंपा जाएगा, जो इस प्रकार के मामलों की जांच कर रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper