लकी पुरुषों के शरीर पर होते हैं ये निशान, अंगों की बनावट से ऐसे करें पहचान

 


नई दिल्ली. सामुद्रिक शास्ख के अनुसार पुरुषों या स्त्री के शरीर की बनावट, चिन्ह और निशान आदि के आधार पर उसके भाग्य और स्वभाव के बारे में जाना जा सकता है. व्यक्ति के शरीर पर स्थित कुछ निशान उसके भविष्य और आर्थिक स्थिति के बारे में बताते हैं. कुछ चिन्ह या तिल व्यक्ति के जीवन में धन संबंधित जानकारी देते हैं. यानी व्यक्ति के जीवन में धनवान बनेगा या नहीं इस बात का भी पता लगाया जा सकता है. आज हम ऐसे ही पुरुषों के बारे में जानेंगे, जिनके शरीर के अंगों की बनावट से उनके भाग्यशाली होने का पता लगता है.

– सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार जिन पुरुषों की पीठ कछुए के समान उठी हुई होती है, उन्हें भाग्यशाली माना जाता है. ये लोग जीवन में खूब मान-सम्मान कमाते हैं.

– हथेली के बीचों-बीच तिल होने वाले पुरुषों के नसीब में सुख-समृद्धि होती है. वाहन सुख होता है. जीवन में मान-सम्मान की प्राप्ति होती है. साथ ही इन लोगों के पास पैसों की कोई कमी नहीं रहती.

– सामुद्रिक शास्त्र में बताया गया है कि चौड़ी छाती और लंबी नाक वाले पुरुष बहुत कम उम्र में ही तरक्की पा लेते हैं. और बहुत आगे तक जाते है.

– ऐसा माना जाता है कि अगर किसी पुरुष के पैर की तर्जनी उंगली यानी अंगूठे के साथ वाली उंगुली बड़ी होती है, तो उसे अच्छा जीवनसाथी मिलता है.

– छाती पर घने बाल वाले पुरुष भी जीवन में खूब धन-पैसा कमाते हैं. सुख की प्राप्ति होती है. ये लोग स्वभाव से काफी संतुष्ट होते हैं.

– जिन पुरुषों के पैर में कमल, रथ और वाण जैसे चिन्ह होते हैं, ये पुरुष शान से जीते हैं. इन लोगों का जीवन खुशियों से भरा होता है.

– जिल पुरुषों के हाथ में उंगलियां होती हैं, वे बहुत मेहनती होते हैं. और इसी कारण इनकी आर्थिक स्थिति बहुत मजबूत होती है.

– नाभि का गहरी और गोल होना भी भाग्यशाली होने की पहचान है. कहते हैं कि जिन पुरुषों की नाभि ऐसी होती है, उनके जीवन में कभी दरिद्रता नहीं आती.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper