लेना है 13वीं किस्त का लाभ तो न करें ये गलती, वरना अटक सकते हैं पैसे

नई दिल्ली. हमारे देश में कई तरह की लाभकारी और कल्याणकारी योजनाएं चल रही हैं, जिनमें से कुछ नई हैं तो कुछ योजनाओं में बदलाव किए गए हैं। इन योजनाओं का मुख्य उद्धेश्य गरीब वर्ग और हर जरूरतमंद तक लाभ पहुंचाना है। ऐसी ही एक योजना है प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, जिसका सीधा लाभ किसानों को दिया जाता है। इस योजना के अंतर्गत किसानों को सालाना 6 हजार रुपये देने का प्रावधान है और इस पैसे को हर चार महीने के अंतराल पर 2-2 हजार रुपये की तीन किस्तों में दिया जाता है। किसानों को अब तक 12 किस्त के पैसे मिल चुके हैं और अब सभी को 13वीं किस्त का इंतजार है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपकी छोटी सी गलती के कारण किस्त अटक सकती है? शायद नहीं, तो चलिए जानते हैं। आप अगली स्लाइड्स में इस बारे में जान सकते हैं…

पीएम किसान योजना से जुड़े प्रत्येक लाभार्थी को 13वीं किस्त का इंतजार है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो किसानों के बैंक खाते में 13वीं किस्त के पैसे जनवरी महीने के पहले सप्ताह में आ सकते हैं।

1. अगर आपने अब तक भूलेखों का सत्यापन नहीं करवाया है, तो आज ही करवा लें। आप अगर इसे नहीं करवाते हैं तो आप 13वीं किस्त के लाभ से वंचित रह सकते हैं। इसलिए अपने नजदीकी कृषि कार्यालय में संपर्क करके इसे करवा सकते हैं।

पिछले काफी समय से देखा जा रहा था कि कई लोग ऐसे थे, जो फर्जी तरीके से योजना का लाभ ले रहे थे। इसे रोकने के लिए ही सरकार ने भूलेखों का सत्यापन करवाना अनिवार्य किया है।

2. अगर आप पीएम किसान योजना के लाभार्थी हैं, तो ई-केवाईसी जरूर करवा लें। अगर आप इसे नहीं करवाते हैं तो किस्त के पैसे अटक सकते हैं। नियमों के तहत प्रत्येक लाभार्थी को ई-केवाईसी करवाना अनिवार्य है। आप इसे ऑनलाइन

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper