शनि के प्रकोप को करना है कम तो ऐसे करें चंदन का इस्तेमाल, शनिदोष से मिलेगी मुक्ति

नई दिल्ली. कर्मफलदाता शनिदेव के प्रकोप जब किसी व्यक्ति पर पड़ता है, तो जीवन में कई परेशानियां आना शुरू हो जाती है। नौकरी, व्यापार, स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याएं आती रहती हैं। कहा जाता है कि व्यक्ति के कर्मों के हिसाब से शनिदेव फल देते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनि एक ऐसा ग्रह है जो खुश हो जाए तो हर व्यक्ति की किस्मत को चमका कर रंक से राजा बना सकता है।

वही रुष्ट हो जाए तो राजा को रंक बनाने में पीछे नहीं हटते हैं। कुंडली में शनि दोष, साढ़े साती और ढैय्या होने से व्यक्ति के जीवन में कई मुश्किलें आती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनिवार का दिन भगवान शनि का होता है। इस दिन चंदन से कुछ खास उपाय करके शनि देव शुभ फलों को प्रदान कर सकते हैं। आइए जानते हैं शनिवार के दिन चंदन संबंधी कौन से उपाय करना होगा शुभ।

कुंडली से शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या से छुटकारा पाने के लिए नहाने के पानी में चंदन की जड़ डाल लें। ऐसा अगले 40 दिनों तक करें। इससे आपको जरूर लाभ मिलेगा।

शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा करते समय लाल चंदन से तिलक लगाएं। ऐसा करने से शनिदेव शांत हो सकते हैं, जिससे काफी हद तक दुष्प्रभाव कम हो सकते हैं।

शनिदेव की कृपा पाने के लिए चंदन से बनी माला से जाप करना शुभ होगा। इसके लिए सूर्यास्त के समय पीपल के पेड़ के नीचे सरसों का तेल जलाएं। इसके बाद वहीं बैठकर 108 बार चंदन की माला से इस मंत्र का जाप करें।मंत्र है- ‘ॐ शं शनैश्चराय नमः’

व्यापार या फिर नौकरी में लगातार परेशानियां आ रही है, तो मंगलवार या फिर शनिवार के दिन 11 पीपल के पत्ते लेकर उसमें लाल चंदन से ‘श्री राम’ लिखें और फिर इसका माला बनाकर हनुमान जी को अर्पित कर दें।

कुंडली में शनि की साढ़े साती या ढैय़्या चल रही है, तो चंदन की माला बनाकर शनिवार के दिन विधिवत पूजा करने के बाद पहन लें। ऐसा करने से शनि दोष से मुक्ति मिल जाएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper