श्रद्धा के पिता ने खोले कई राज – हत्या की साजिश में आफताब का परिवार भी था शामिल?

नई दिल्ली: दिल्ली के मेहरौली में हुए श्रद्धा हत्या कांड से जुड़े एक से एक राज सामने आ रहे हैं। अब श्रद्धा के पिता विकास ने बताया है कि श्रद्धा की मां की तबीयत खराब रहती थी। इसलिए मजबूर होकर वह आरोपी आफताब पूनावाला के परिवार से मिलने गए थे। हालांकि आफताब के छोटे भाई ने उन्हें घर में घुसने ही नहीं दिया। आफताब का परिवार मुंबई में वसाई में रहता था। इसके एक महीने बाद ही श्रद्धा की मां की मौत हो गई थी।

विकास ने इस बात पर भी हैरानी जताई कि आखिर हत्या से कुछ दिन पहले ही आफताब का परिवार वसाई से चला क्यों गया। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि आफताब के परिवार को इस बात की जानकारी रही हो कि वह श्रद्धा की हत्या करने वाला है। आफताब के पकड़े जाने से दो सप्ताह पहले ही 11 नवंबर को आफताब का परिवार वसाई से चला गया था। अपने परिवार की शिफ्टिंग में मदद करने आफताब भी पहुंचा था। यह बात आफताब के पड़ोसियों ने बताई थी।

श्रद्धा के पिता दिल्ली पुलिस के लॉकअप में आफताब से आमने-सामने मिले थे। उन्होंने कहा कि पुलिस को आफताब के परिवार से भी पूछताछ करनी चाहिए। विकास ने याद करते हुए बताया कि कैसे उनकी पत्नी और साली आफताब के परिवार से मिलने वसाई पहुंचे थे। 2019 में ही श्रद्धा आफताब के साथ रहने के लिए चली गई थी। श्रद्धा की मां बीमार रहती थी इसलिए पिता चाहते थे कि आफताब का परिवार शादी के लिए राजी हो जाए। विकास ने कहा, ‘हमने श्रद्धा को फोन करके कहा था कि जल्दी से शादी करले क्योंकि उसकी मां की तबीयत ठीक नहीं है। उसने इनकार कर दिया। इसके बावजूद हम आफताब के परिवार से मिलने गए थे लेकिन मिल नहीं पाए।’

विकास ने कहा, श्रद्दा ने कभी नहीं बताया कि आफताब के साथ उसके संबंध इस तरह के हैं। मार-पीट और झगड़े का जिक्र कभी नहीं किया। श्रद्धा ने अपने पिता को यह भी नहीं बताया था कि वह आफताब के साथ कहां रहती है। श्रद्धा के दोस्तों का कहना है कि वह आफताब के परिवार के साथ संपर्क में रहती थी और उन्हें इस बात की जानकारी थी कि श्रद्धा को मारा-पीटा जाता है। वहीं पुलिस के सूत्रों का भी कहना है कि श्रद्धा की हत्या के बाद आफताब के पिता अमीन दिल्ली में ही थे। हालांकि कोर्ट में इस बात की जानकारी नहीं दी गई।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper