श्रीलंका के खिलाफ आखिरी वनडे में इस वर्ल्ड रिकॉर्ड को अपने नाम करने पर होगी भारत की नजरें

 


नई दिल्ली. भारत और श्रीलंका के बीच तीन मैच की वनडे सीरीज का तीसरा और आखिरी मुकाबला कल यानी 15 जनवरी को तिरुवनंतपुरम के ग्रीनफील्ड इंटरनेशनल स्टेडियम में खेला जाना है। इस मुकाबले में रोहित शर्मा एंड कंपनी की नजरें इतिहास रचने पर होगी। दरअसल, कोलकाता में जीत के साथ भारत ने ऑस्ट्रेलिया के वर्ल्ड रिकॉर्ड की बराबरी की थी। यह रिकॉर्ड किसी एक विपक्षी टीम के खिलाफ सबसे ज्यादा मैच जीतने का था। अब तिरुवनंतपुरम में आखिरी वनडे जीतकर श्रीलंका का सूपड़ा साफ करने के साथ टीम इंडिया की नजरें इस रिकॉर्ड को अपने नाम करने पर होगी।

कोलकाता वनडे जीतकर भारत ने श्रीलंका पर अपनी 95वीं जीत दर्ज की थी। वहीं ऑस्ट्रेलिया ने इतने ही वनडे इंटरनेशनल मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ जीते हैं। अगर भारत तिरुवनंतपुरम में जीत दर्ज करता है तो वह किसी एक टीम के खिलाफ सबसे ज्यादा मैच जीतने वाला देश बन जाएगा।

भारत बनाम श्रीलंका – 95*
ऑस्ट्रेलिया बनाम न्यूजीलैंड – 95
पाकिस्तान बनाम श्रीलंका – 92
ऑस्ट्रेलिया बनाम इंग्लैंड – 87
ऑस्ट्रेलिया बनाम भारत – 80

तीसरे और आखिरी वनडे में भारतीय प्लेइंग इलेवन में बदलाव की संभावना अधिक है। दरअसल, टीम इंडिया यह सीरीज 2-0 से अपने नाम कर चुकी है, ऐसे में रोहित शर्मा की नजरें बेंच पर बैठे खिलाड़ियों को मौका देने पर होगी। इनमें सबसे बड़े दो नाम ईशान किशन और सूर्यकुमार यादव के हैं। सीरीज शुरू होने से पहले से ही इन दोनों नामों पर काफी चर्चा हुई थी, मगर रोहित ने पहले दो मुकाबलों में किशन और सूर्या को मौका नहीं दिया।

सूर्या ने हाल ही में श्रीलंका के खिलाफ खत्म हुई टी20 सीरीज के आखिरी मुकाबले में शतक जड़ा था, वहीं ईशान किशन ने बांग्लादेश दौरे के आखिरी वनडे में सबसे तेज दोहरा शतक जड़ने का रिकॉर्ड अपने नाम किया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper