श्री श्री सार्वजनिन दुर्गोत्सव में पांच दिवसीय अनुष्ठान प्रारम्भ


सीतापुर। श्री श्री सार्वजनिन दुर्गोत्सव आँख अस्पताल में बंगाली समाज द्वारा पांच दिवसीय दुर्गा पूजा का आयोजन किया जा रहा हैं।
श्री सार्वजनिन दुर्गोत्सव का इस बार 48 वां साल है। पंचमी के दिन पूजा मंडप पर रूबी मुखर्जी, निधि चक्रवर्ती, नीता दास, रिया दास, दीप्ती मुखर्जी, श्याम मल्लिक पोले आदि समाज की महिलाओ के द्वारा नारियल व तिल के लड्डू बनाए गए। दुर्गा मां के पूजा के दौरान मंच को पंडाल की तरह तैयार किया गया है, जिसे बहुत ही खूबसूरत और अनोखी चीजों से सजाया गया है। पूजा के दौरान मां दुर्गा की पूजा में अन्य प्रमुख देवता में लक्ष्मी, सरस्वती, गणेश और कार्तिकेय भी शामिल हैं। हालाँकि दुर्गा की पूजा उनकी राक्षस-वध मुद्रा में की जाती है, इसलिए उन्हें अपने बच्चों के साथ देखा जाता है। देवी और उनके बच्चों को उनके जानवरों की सवारी के साथ चित्रित किया गया है। वास्तविक पूजा के पांच दिनों के दौरान असंख्य संस्कार और अनुष्ठान होते हैं, जो षष्ठी (नवरात्रि का छठा दिन) से लेकर दशमी (दसवां दिन, विजयादशमी या दशहरा) तक चलते हैं। वास्तविक दुर्गा पूजा सोष्ठी से शुरू होती है। ऐसा माना जाता है कि इस शरदकालीन पूजा की शुरुआत राम ने रावण को हराने में देवी की मदद लेने के लिए की थी। इसलिए बोधोन समारोह के माध्यम से देवी का विशेष रूप से आह्वान किया जाता है गत वर्षो की तरह इस वर्ष भी दुर्गा पूजा में हवन, ढाक धूपचि के बीच बंगाली सांस्कृतिक कार्यक्रमों का रंग जमेगा व बंगाली परंपरा के व्यंजनों का भी लुत्फ ले सकेंगे। इस बार दुर्गोत्सव कमेटी के प्रेजिडेंट एन.एन
चटर्जी, वाइस प्रेजिडेंट रंजीत कुमार दास, एड. जनरल सेक्रेटरी एस. के. दास, पंकज मुखर्जी वाइस प्रेसिडेंट बिस्वजीत पोले, असिटेंट जनरल सेक्रेटरी आकाश राय, अरिददम दास सहित कमेटी के सभी पदाधिकारियों ने पूजा पंडाल में सजावट से लेकर प्रसाद वितरण तक की सारी जिम्मेदारी आपस में बांट ली है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper