सरकार की जबरदस्त स्कीम, मिलेंगे 10 लाख तक रुपये, ये लोग कर सकते हैं आवेदन

नई दिल्ली. सरकार के जरिए आम जनता के लिए कई स्कीम चलाई जा रही है. इन स्कीम के माध्यम से सरकार की ओर से लोगों का कल्याण किया जाता है. वहीं इनमें से कई स्कीम ऐसी भी है जो अलग-अलग उद्देश्यों की पूर्ती करती है और लोगों को अलग-अलग राशि भी जारी की जाती है. इन्हीं स्कीम में से एक है मुद्रा लोन. इस स्कीम के जरिए सरकार की ओर से अलग-अलग कैटेगरी के तहत योग्यता पूरी करने पर सरकार की ओर से राशि प्रदान की जाती है. आइए जानते हैं मुद्रा लोन के बारे में…

देश में कई लोग ऐसे भी हैं जो बिजनेस करना चाहते हैं लेकिन पूंजी की कमी के कारण बिजनेस कर नहीं पाते हैं. ऐसे ही लोगों की मदद के लिए सरकार की ओर से मुद्रा लोन की शुरुआत की गई है. मुद्रा लोन एक सरकारी स्कीम है. इस योजना के तहत व्यक्तियों, व्यापार मालिकों, उद्यमों और स्व-नियोजित पेशेवरों को 10 लाख रुपये तक की राशि दी जाती है.

सरकार की ओर से व्यापार ऋण और एमएसएमई ऋण की पेशकश के लिए क्रेडिट फंडिंग योजना शुरू की गई है. इस योजना के तहत बैंकों/एनबीएफसी के जरिए लोन लेने वाले से कोई भी Collateral/Security की जरूरत नहीं पड़ती है. साथ ही इसमें नाममात्र की प्रोसेसिंग फीस और फोरक्लोजर शुल्क लगता है. साथ ही इसमें 1 साल से 5 साल तक की रीपेमेंट अवधि की पेशकश की गई है.

इस योजना के तहत लोन पर ब्याज दर आवेदक की प्रोफाइल और बिजनेस की जरूरतों के आधार पर तय की जाती है. मुद्रा योजना को शिशु, किशोर और तरुण नाम की 3 ऋण योजनाओं के तहत वर्गीकृत किया गया है. शिशु स्कीम में 50 हजार रुपये तक का लोन मिलता है. किशोर स्कीम में 50,001 रुपये से 5 लाख रुपये तक का लोन मिलता है. इसके अलावा तरुण स्कीम में 5,00,001 रुपये से 10 लाख रुपये तक का लोन लिया जा सकता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper