सरकार ने 8 यूट्यूब चैनलों पर लगाई रोक

नई दिल्ली: भारत सरकार ने एक बार फिर देश के खिलाफ दुष्प्रचार करने वाले यूट्यूब चैनल्स के खिलाफ एक्शन लिया है। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने 8 यूट्यूब चैनलों को ब्लॉक किया है, जिनमें 7 भारतीय और 1 पाकिस्तान स्थित YouTube चैनल है। इन्हें भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा, विदेशी संबंधों और सार्वजनिक व्यवस्था से संबंधित दुष्प्रचार फैलाने के लिए IT नियम, 2021 के तहत ब्लॉक किया गया है। आरोप है कि ये भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा, कानून-व्यवस्था एवं विदेशी संबंधों पर असर डालने वाली झूठी और गलत कंटेंट प्रसारित कर रहे थे। इन ब्लॉक YouTube चैनलों को 114 करोड़ से ज्यादा बार देखा गया और इन चैनल्स पर 85 लाख 73 हजार सब्सक्राइबर्स हैं। यानी इनकी पहुंच बहुत बड़ी आबादी तक थी और इसलिए खतरा भी ज्यादा था।

इन सभी पर भारत की सुरक्षा, विदेशी संबंधों और सार्वजनिक व्यवस्था से संबंधित दुष्प्रचार फैलाने का आरोप है। आरोपों के मुताबिक ये भारत में दहशत पैदा करने, सार्वजनिक व्यवस्था को बिगाड़ने और सांप्रदायिक विद्वेष भड़काने वाले कंटेंट प्रसारित कर रहे थे। साथ ही इन चैनलों में चलाई जा रही खबरें भी असत्यापित थीं। यानी कंटेंट के सही होने की कोई गारंटी नहीं थी।

आपको बता दें कि दिसंबर 21 से अब तक 102 यूट्यूब चैनल ब्लॉक किए जा चुके हैं। इससे पहले 25 अप्रैल 2022 को मोदी सरकार ने 16 यूट्यूब चैनलों को ब्लॉक किया था। उन चैनल्स में 10 भारतीय जबकि 6 पाकिस्तान बेस्ड चैनल थे। इन्हें भी आईटी रूल्स 2021 के तहत ब्लॉक किया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper