सावधानः सर्दियों में आप भी तो नहीं पीते गर्म पानी, इंटरनल ऑर्गन हो सकते हैं डैमेज! ऐसे करें बचाव

आमतौर पर सर्दियां आते ही घरों में फ्लास्‍क और गर्म पानी का इस्‍तेमाल बढ़ जाता है. लोग खुद को हेल्दी रखने के लिए गर्म पानी पीना पसंद करते हैं और सीजनल बीमारियों से बचने के लिए दिन रात इसका सेवन करते हैं. क्‍या आप जानते हैं कि गर्म पानी का अधिक सेवन आपकी सेहत को काफी नुकसान भी पहुंचा सकता है? दरअसल, वैज्ञानिकों ने ये पाया है कि सेहत के लिए अधिक गर्म पानी का सेवन फायदेमंद नहीं होता. इसकी वजह से सीरियस हेल्‍थ प्रॉब्‍लम हो सकते हैं. आइए जानते हैं कैसे.

स्‍टाइलक्रेजके मुताबिक, गर्म पानी के सेवन से शरीर के अंदरूनी अंग जल सकते हैं जो खतरनाक साबित हो सकता है. जब गर्म पानी स्किन टिश्यू के संपर्क में आता है तो ये डैमेज हो जाते हैं. एक केस में पाया गया कि 61 वर्षीय इंसान के गर्म पानी के सेवन से लैरींगोफरीनक्स एडिमा की समस्‍या हुई और इसकी वजह से श्वांस तंत्र ब्‍लॉक हो गया. इसकी वजह से उन्‍हें सांस लेने में दिक्‍कत होने लगी और 6 से 24 घंटे के अंदर ये समस्‍या और भी परेशान करने वाली हो गई.

अगर आप हॉट बॉयलर यूज करते हैं तो इससे निकलने वाला पानी मे‍टेलिक कणों के संपर्क में आता है जो ठंडे पानी की तुलना में गर्म पानी में अधिक घुलनशील होता है. इसलिए बेहतर होगा कि आप अपने सप्‍लाई वाले पानी में कॉन्‍टैमिनेशन को चेक करते रहें. ऐसे में अगर आप गर्म पानी पी रहे हैं तो उसके सोर्स को चेक करें और स्‍टील के बर्तन में ही पानी गर्म कर पियें.

गर्म पानी पीते हैं तो इन बातों का रखें ख्‍याल
-पीने के पानी को उबालने की बजाय आप हल्‍का गर्म कर सकते हैं. ये अंगों को जलाएगा भी नहीं और दूषित भी नहीं करेगा.
-हमेशा रूम टेम्‍परेचर या हल्‍का गुनगुना पानी का ही सेवन करें.
-आप वॉटर फिल्‍टर का इस्‍तेमाल करें जिससे कंटैमिनेशन का खतरा कम हो.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper