सावधान ! जरा सी असावधानी पड़ सकती है भारी, बैंक खाता हो सकता है खाली, सरकार ने जारी किया अलर्ट

नई दिल्ली । आज देश में अधिकांश छोटे से बड़े लेनदेन ऑनलाइन ट्रांजेक्शन द्वारा हो रहे हैं। लोग अब कार्ड और यूपीआई से पेमेंट ज्यादा कर रहे हैं, लेकिन ऑनलाइन पेमेंट बढ़ने के बाद से फ्रॉड की घटनाएं भी काफी हो रही हैं। लोगों की जरा सी लापरवाही से उनका पूरा बैंक अकाउंट खाली हुआ जा रहा है। फ्रॉड की घटनाएं बढ़ने के बाद अब सरकार ने अलर्ट जारी किया है।

सरकार ने चेताया है कि ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के दौरान बेहद सावधानी बरतें। इस दौरान सरकार ने कुछ बातों का ध्यान रखने को कहा है। अगर आप भी ऑनलाइन ट्रांजेक्शन ज्यादा करते हैं तो इन बातों का ध्यान जरूर रखें। सरकार ने चेताया है कि लोग अपने मोबाइल पर सभी ऐप को डाउनलोड न करें। ऐप को डाउनलोड करने से पहले सावधानी बरतें और ऐप को गूगल प्ले स्टोर या किसी आधिकारिक ऐप स्टोर से ही डाउनलोड करें। यहां पर भी पहले ऐप की डाउनलोड संख्या और ऐप की डिटेल जरूर चेक कर लें।

आपको मिलने वाले किसी भी अंजान ई-मेल और एसएमएस पर दिए गए लिंक पर क्लिक न करें। वहीं अनजान वेबसाइटों को न खोलें। ऐसा करना आपको आर्थिक नुकसान पहुंचा सकता है। ऐसे नंबरों से हमेशा बचे जो अलग से दिख रहे हों। इन नंबरों से आने वाली कॉल का जवाब न दें। स्कैमर्स अक्सर अपने वास्तविक फोन नंबर का खुलासा करने से बचने के लिए ईमेल-टू-टेक्स्ट सेवाओं का उपयोग करके अपनी पहचान छुपाते हैं।

एंटीस्पायवेयर सॉफ़्टवेयर को अपने लैपटॉप और डेस्कटॉप में जरूर इंस्टॉल रखें। इसे भी समय-समय पर रन करके देखते रहें कि कहीं आपके सिस्टम में कोई वायरस तो नहीं आ गया है। हमेशा छोटे यूआरएल के प्रति सावधानी बरतें, आप जिस वेबसाइट पर जा रहे हैं उसका पूरा डोमेन देखने के लिए संक्षिप्त यूआरएल अगर संभव हो तो अपने कर्सर को घुमाएं या यूआरएल चेकर का उपयोग करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper