सोनभद्र में मिशन शक्ति चतुर्थ चरण के अवसर पर मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना कॉविड-19 से परित्यक्त बच्चों से सीधी वार्ता एवं लैंगिक समानता,हिंसा की रोकथाम के लिए बड़ी संख्या में जुड़े युवा और जन सामान्य

सोनभद्र,शक्ति पर्व शारदीय नवरात्र के अवसर पर सबल नारी-प्रगति हमारी, मिशन शक्ति नारी सुरक्षा नारी सम्मान नारी स्वालंबन अभियान के चतुर्थ चरण के अंतर्गत आज जिलाधिकारी श्री चन्द्र विजय सिंह व पुलिस अधीक्षक डाॅ0 यशवीर सिंह ने मुख्यालय के तहसील सभागार में महिला सशक्तिकरण के तहत स्कूल के विद्यार्थीयों से सीधा संवाद किए एवं प्रदेश सरकार द्वारा बाल सेवा योजना के तहत ऐसे परित्यक्त बच्चे जिन्होंने अपनी मां या पिता को खो दिया हो, ऐसे बच्चों द्वारा जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा सीधा संवाद कर स्वास्थ्य, शिक्षा, आर्थिक सहायता से रूबरू हुए, इस दौरान बड़ी संख्या में युवा भी इस कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। इस दौरान जिलाधिकारी ने उपस्थित स्कूल के छात्राओं, महिलाओं,जनमानस को सम्बोधित करते हुए कहा कि मिशन शक्ति कार्यक्रम का उद्देश्य महिलाओं को समाज की मुख्यधारा में लाना है तथा उनके आत्मविश्वास में वृद्धि करने हेतु यह मिशन शक्ति अभियान प्रदेश सरकार द्वारा प्रारंभ किया गया है, हमारे समाज में जब तक बेटा-बेटी में भेदभाव होता रहेगा तब तक समाज और देश आगे नहीं बढ़ेगा।आवश्यकता इस बात की है कि बेटियां , महिलाएं,आत्मनिर्भर बने सशक्त बने शक्तिशाली बने। इस मौके पर प्रदेश सरकार द्वारा मिशन शक्ति अभियान के अन्तर्गत बालिकाओं एवं समाज को जन जागरूकता कार्यक्रम चलाकर जागरूक किया जा रहा है, नारी शिक्षा ,नारी सुरक्षा, नारी स्वालम्बन को बढ़ावा देना इस अभियान की प्राथमिकता है, समाज में विभिन्न प्रकार की नकारात्मक परंपराओं एवं कुरीतियों को समाप्त करना होगा, जिस महिला/बालिका को जो भी समस्या हो, उसके निकराकरण हेतु अपनी आवाज को बुलन्द करें और आगे बढ़ें। इस दौरान पुलिस अधीक्षक डाॅ0 यशवीर सिंह ने बताया कि बेटियों में आत्मविश्वास को बढ़ावा देना ही मिशन शक्ति अभियान का मुख्य उद्देश्य है, मिशन शक्ति अभियान के अन्तर्गत वाद-संवाद के माध्यम से बालिकाओं को उनकी सुरक्षा, सम्मान, स्वावलम्बन व उनके हक एवं अधिकार के विषय में बताया जा रहा है।
इस मौके पर जिला प्रोबेशन आधिकारी ने मिशन शक्ति अभियान के अन्तर्गत महिलाओं एवं बालिकाओं के सुरक्षा के दृष्टिगत 1090 वूमेन पावर लाइन, 181 वूमेन हेल्पलाइन, 1098 चाइल्ड लाइन, 108 एंबुलेंस सेवा, 102 गर्भवती महिलाओ एवं नवजात शिशुओं के लिए एंबुलेंस हेल्पलाइन, 101 अग्निशमन सेवा, 112 पुलिस आपातकालीन सेवा और 1930 साइबर हेल्पलाइन आदि जरूरी नंबरों को जन सामान्य में होर्डिंग, स्टैंडिंग बैनर के माध्यम से भी प्रचारित किया जा रहा है जिससे कि जरूरतमंद इन नंबरों पर कॉल कर अपनी समस्या का समाधान कर सकते हैं। कार्यक्रम का संफल संचालन जिला समन्वयक सुश्री साधना मिश्रा ने किया। इस मौके पर उप जिलाधिकारी निखिल यादव चित्राधिकारी नगर राहुल पांडे जिला प्रवेश अधिकारी सुधांशु शेखर शर्मा, महिला थाना प्रभारी सरोजमा सिंह, जिला समन्वयक साधना मिश्रा, सीमा द्विवेदी, केंद्र प्रशासक दीपिका सिंह, उमा लेखपाल सहित बच्चे शिक्षक एवं शिक्षिकाएं उपस्थित रहीं।

रवीन्द्र केसरी सोनभद्र

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper