स्टेट हेल्थ कार्ड बनाने के लिए 75 जिलों से पुलिस विभाग में कार्यरत कंप्यूटर ऑपरेटरों का प्रशिक्षण सम्पन्न

लखनऊ: पंडित दीनदयाल उपाध्याय राज्य कर्मचारी कैशलेस चिकित्सा योजना के अंतर्गत स्टेट हेल्थ कार्ड बनाने की पूरी प्रक्रिया समझाने हेतु 75 जनपदों से पुलिस विभाग में कार्यरत कंप्यूटर कार्य में दक्ष कर्मचारियों को प्रशिक्षण हेतु पुलिस हेडक्वाटर, सिग्नेचर बिल्डिंग के शहीद चंद्रशेखर आज़ाद प्रेक्षागृह में आमंत्रित किया गया था। इस कार्यक्रम का उद्देश्य पुलिस विभाग के विभिन्न जनपदों में कार्यरत सरकारी सेवकों को कार्ड बनाने में आ रही तकनीकी समस्याओं का समाधान करना है। साथ ही साथ बन रहे स्टेट हेल्थ कार्ड की संख्या में तेज़ी लाना है। इस कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन श्रीमती संगीता सिंह (IAS) मुख्य कार्यपालक अधिकारी की मुख्य आतिथ्य में प्रारम्भ हुआ। कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन डीप प्रज्वलन के माध्यम से हुआ।

कार्यक्रम के प्रारंभिक उद्बोधन डॉ. परवीन आज़ाद से हुआ। उन्होंने 75 जनपदों से आए हुए प्रशिक्षणार्थियों को ध्यानपूर्वक प्रशिक्षण ग्रहण करने का आग्रह किया। कार्यक्रम में पधारे विशेष अतिथि श्री कमला प्रसाद यादव, S.P. पुलिस मुख्यालय द्वारा भी अपने उद्बोधन में इस कार्यक्रम के आयोजन के लिए मुख्य कार्यपालक अधिकारी का आभार व्यक्त किया।

डॉ. पूजा यादव अपर, मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने बताया कि किस तरह से श्रीमती संगीता सिंह जी ने आयुष्मान भारत योजना को शिखर पर पहुंचाया है एवं 5 करोड़ आयुष्मान कार्ड बनाकर पुरे देश में अग्रिम पंक्ति उत्तर प्रदेश को ला खड़ा किया है। उसी तरह आप इस योजना को भी शिखर पर ले जाने में योगदान दे रहे हैं। मुख्य अतिथि संगीता सिंह मुख्य कार्यपालक अधिकारी महोदया ने अपने उद्बोधन में विभाग से पधारे सभी अधिकारी कर्मचारियों को धन्यवाद दिया एवं यह कहा कि आप लोग हमारे धन्यवाद के पात्र हैं क्यूंकि आप हमारी सुरक्षा करते हैं। अतः स्वास्थ्य के इस योजना से हम आपको हेल्थ सुरक्षा देने का प्रयास कर रहे हैं।

आगे उन्होंने विस्तार पूर्वक बताया कि इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको स्टेट हेल्थ कार्ड बनाना होगा एवं पूरी प्रक्रिया कम्प्यूटरीकृत है। उन्होंने ये भी बताया कि उत्तर प्रदेश में 5 हज़ार से अधिक (निजी एवं सरकारी) चिकित्सालय इस योजना का लाभ लेने के लिए उपलब्ध हैं। संक्षेप में उन्होंने इलाज कैसे मिलेगा इसकी भी जानकारी दी साथ ही डॉ. परवीन आज़ाद को प्रो-एक्टिव होकर इस कार्यक्रम के आयोजन के लिए धन्यवाद देकर अपने शब्दों को विराम दिया।

सीईओ मेम के उद्बोधन के पश्चात सत्यप्रकाश (आईटी मैनेजर) एवं डॉ. डी के सिंह द्वारा पधारे प्रशिक्षणार्थियों को योजना का विस्तारपूर्वक प्रशिक्षण प्रदान किया व उनके द्वारा पूछे गए सभी समस्याओं का समाधान भी किया। प्रशिक्षण के पश्चात डॉ. परवीन आज़ाद के वोट ऑफ़ थैंक्स से कार्यक्रम का समापन हुआ। उन्होंने कार्यक्रम के सफलतापूर्वक आयोजन हेतु पधारे सभी गणमान्य व्यक्तियों को धन्यवाद किया।

7 दिन अगर आपका मैंने मुफ्त में कर दिया तो क्या आपके बॉस आगे जारी रखेंगे

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper