हरिद्वार में हर की पौड़ी पर श्रद्धालुओं ने किया गंगा स्नान

हरिद्वार: पूरे देश में आज शिवरात्रि धूमधाम के साथ मनाई जा रही है। भगवान शिव का जलाभिषेक करने के लिए मंदिर में मंगलवार (26 जुलाई) को श्रद्धालुओं की भीड़ जुट गई है। तो वहीं, शिवरात्रि के पावन अवसर पर उत्तराखंड के हरिद्वार में हर की पौड़ी पर श्रद्धालुओं ने पावन गंगा स्नान किया। जिसका वीडियो न्यूज़ एजेंसी एएनआई ने जारी किया है।

हरिद्वार से शिव भक्त (कांवडियों) गंगा जल (कांवड़) लेकर अपने गंतव्य को रवाना हो गया। इस दौरान हरिद्वार शहर ही नहीं, बल्कि उसके बाहर भी कई किलो मीटर दूर तक भगवा रंग ही नजर आया। जहां तक नजर पहुंची वहां तक डाक कावंड़ यात्रियों के चौपहिया व दोपहिया वाहन ही नजर आए। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऐसा बताया जा रहा है कि सोमवार 25 जुलाई को करीब 60 लाख शिव भक्तों ने अपने-अपने प्रदेशों के लिए वापसी की।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, तीन कोरड़ 50 लाख 70 हाजर कांवडियों हरिद्वार और ऋषिकेश से वापसी कर चुके हैं। वहीं, पुलिस को यातायात व्यवस्था बनाने में काफी पसीना बहाना पड़ा। बता दें कि सोमवार को पूरे दिन हाईवे पर हाथों में गंगाजल लेकर डाक कांवड़ियां अपने शिवालयों की तरफ प्रस्थान करने हुए नजर आए। इस दौरान हाईवे और संपर्क मार्गों पर बम-बम भोले की आवाज गूंजती रही।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper