हिंदू धर्म के खिलाफ द्रमुक नेता ए. राजा ने उगला जहर, भाजपा ने किया हमला

चेन्नई । द्रमुक नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री ए. राजा ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए हिंदू धर्म के खिलाफ कई बातें कहीं, जिसपर भाजपा ने कड़ी आपत्ति जताई है। द्रविड़ कड़गम द्वारा आयोजित सभा को संबोधित करते हुए, राजा ने पूछा, हिंदू कौन है? हमें दावा करने का अधिकार होना चाहिए .. हम हिंदू नहीं बनना चाहते, आप मुझे हिंदू के रूप में क्यों देख रहे हैं?

उन्होंने कहा, मैंने ऐसा कोई धर्म नहीं देखा। कर्नाटक में लिंगायत सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कह रहे हैं कि उनकी पूजा करने का तरीका और धार्मिक सिद्धांत अलग हैं। वे खुद को हिंदू घोषित न करने के लिए कह रहे हैं। लेकिन सुप्रीम कोर्ट क्या कह रहा है? सुप्रीम कोर्ट कह रहा है कि अगर आप ईसाई, मुस्लिम या फारसी नहीं हैं, तो आप हिंदू है। क्या कोई और देश है, जहां इतनी क्रूरता है?

उन्होंने आगे कहा, जब तक आप हिंदू हैं तो आप शूद्र हैं। तुम शूद्र हो, तब तक जब तक तुम एक वेश्या के पुत्र हो। आप हिंदू नहीं हैं, तब तक जब तक आप पंजायथु (दलित) हैं और अछूत हैं। आप में से कितने लोग वेश्याओं की संतान बनकर रहना चाहते हैं? आप में से कितने लोग अछूत रहना चाहते हैं? अगर हम इन सवालों को लेकर मुखर हो जाएं, तो यह सनातन (सनातन धर्म) को तोड़ने में अहम भूमिका निभाएगा।

राजा की टिप्पणी के खिलाफ कड़ी प्रतिक्रिया में, भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष वनथी श्रीनिवासन, जो कोयंबटूर से विधायक भी हैं, ने ट्वीट किया, द्रमुक सांसद ए. राजा ने कई मौकों पर महिलाओं और हिंदुओं का अपमान किया है। इस बार भी उन्होंने यह कहते हुए जहर उगला कि शूद्र वेश्याओं की संतान हैं और वे तब तक रहेंगे, जब तक वे हिंदू धर्म में रहेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper