12 साल बाद बना नवपंचम योग, इन 5 राशियों पर होने वाली है पैसों की बरसात

13 नवंबर को बुध गोचर के साथ ही गुरु और बुध का नवपंचम राजयोग बन गया है. अब 16 नवंबर को जैसे ही सूर्य वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा तो गुरु और सूर्य भी नवपंचम राजयोग का निर्माण करेंगे. ग्रहों का ऐसा संयोग करीब 12 साल बाद बन रहा है. ज्योतिषियों का कहना है कि जिन राशियों के स्वामी गुरु, बुध, शुक्र या सूर्य हैं, उनकी कुंडली में ये राजयोग सक्रिय हो जाएगा. आइए जानते हैं कि ये नवपंचम राजयोग किन राशियों को लाभ देने वाले हैं.

वृष: नवपंचम राजयोग वृष राशि वालों को करियर-कारोबार में लाभ देगा. नौकरी में भी नए अवसर प्राप्त हो सकते हैं. व्यापार करने वालों को भी खूब लाभ मिलेगा. निवेश के लिए समय बहुत ही अच्छा है.

मिथुन: मिथुन राशि वालों की सोई किस्मत जगा सकता है नवपंचम योग. आपको नई नौकरी का ऑफर मिल सकता है. धन लाभ होगा और सेहत भी ठीक रहेगी. आय के साधन बढ़ने की भी संभावना है.

कर्क: नवपंचम योग के चलते कर्क राशि वालों को भाग्य का साथ मिलेगा. लंबी यात्राओं से लाभ मिलेगा. निवेश के लिए समय अनुकूल है. जो लोग नया काम शुरू करने वाले हैं, उन्हें निश्चित तौर पर लाभ होगा.

तुला: तुला राशि वालों को यह राजयोग धन लाभ कराएगा. वाणी की दम पर काम बनेंगे. अचानक कोई खुशखबरी मिल सकती है. आकस्मिक धन लाभ हो सकता है. कारोबार में निवेश के लिए अच्‍छा समय है.

कुंभ: नौकरी और व्‍यापार दोनों प्रकार के जातकों के लिए समय अच्‍छा है. इस दौरान की गई मेहनत का फल बहुत अच्छा होगा. नई नौकरी का ऑफर भी आपको मिल सकता है. रुके हुए कार्य तेजी से पूरे होंगे.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper