Gmail यूजर्स हो जाएं सतर्क! समाने आया नए तरह का का फ्रॉड

नई दिल्ली। 2021 में महामारी की दूसरी लहर के दौरान एक नया घोटाला सामने आया था। यह क्लासिक फ़िशिंग स्कैम का एक नया रूप था, लेकिन इसमें एक नया फ्रॉड जुड़ गया है जिससे लोगों को धोखा देना आसान हो गया। फ़िशिंग घोटाले वे घोटाले होते हैं जहां स्कैमर्स किसी व्यक्ति को सेंसिटिव इनफार्मेशन चुराने और धोखा देने के लिए डिज़ाइन किया गया एक फ्रॉड मेसेज भेजते हैं।

इस विशेष घोटाले में, हैकर्स डीएचएल से डिलीवरी सेवा एजेंट होने का दिखावा करेंगे और जीमेल, याहू, आउटलुक और अन्य प्लेटफॉर्म पर ईमेल पर ऑर्डर की पुष्टि करने के लिए एक छोटे से पेमेंट का अनुरोध करेंगे। जिससे यह पहचानना मुश्किल हो सकता है कि आपके साथ धोखाधड़ी की जा रही है या नहीं, कुछ स्पेशल स्टेप हैं जो आप स्कैमर्स से सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उठा सकते हैं।

डरावने Gmail Scam की वापसी, उपयोगकर्ताओं से पैसे चुरा सकते हैं
जैसे-जैसे अधिक से अधिक लोगों ने ऑनलाइन खरीदारी शुरू की है, डोर-स्टेप डिलीवरी एक आम बात हो गई है। विभिन्न डिलीवरी सेवाओं से आने वाले ऑर्डर को स्वीकार करने से पहले लोग दो बार सोचते भी नहीं हैं। और यही स्कैमर्स उन्हें अपना मोहरा बनाते हैं। द एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार, जीमेल स्कैम से पीड़ित को एक ईमेल मिला है जो डीएचएल द्वारा भेजा गया है। ईमेल ऑथेंटिक दिखने के लिए पीड़ित को ईमेल में नाम से भी संबोधित करता है। ध्यान दें कि डीएचएल इस घोटाले में किसी भी तरह से शामिल नहीं है और यह स्कैमर्स हैं जो विश्वसनीय दिखने के लिए नाम का उपयोग करते हैं।

यदि कोई पीड़ित इस फ्रॉड में फंस जाता है, तो उन्हें एक नकली वेबसाइट पर ले जाया जाता है, जहां पते की पुष्टि करने के बाद, उन्हें एडमिनिस्ट्रेशन फी के रूप में एक छोटा सा भुगतान करने के लिए कहा जाता है। एक बार जब पीड़ित भुगतान कर देता है, तो स्कैमर पीड़ित का पूरा नाम, क्रेडिट कार्ड डिटेल और पता एकत्र करने में सक्षम हो जाता है, जिसका उपयोग वे बाद में अपने बैंक खातों से पैसे चोरी करने के लिए कर सकते हैं। अगर आप इस Gmail स्कैम से परेशान हैं तो घबराएं नहीं। जबकि स्कैमर्स इसे ऑथेंटिक दिखाने की कोशिश करते हैं, कुछ तरीके हैं जिनसे आप पता लगा सकते हैं कि यह नकली है। पता लगाने के लिए नीचे दी गई जानकारी तो जरूर जान लें:

वेबसाइट पर जाने के बाद वही स्पेलिंग भी देखी जा सकती है। वेबसाइट में एक यूपीएस ट्रक की तस्वीर भी है, जिसे डीएचएल कभी भी पोस्ट नहीं करेगा क्योंकि यह एक प्रतिद्वंद्वी कंपनी है।
अंत में, कोई भी डिलीवरी सेवा कभी भी ग्राहक से एडमिनिस्ट्रेशन फी को पे करने के लिए नहीं कहती है। यदि आपसे ऐसा कहा जाए तो यह निश्चित रूप से एक घोटाला है, तो कभी भी इस तरह का पेमेंट न करें।
आपको अपने सभी ऑर्डर पर भी नज़र रखनी चाहिए और अगर आपको ऐसा ईमेल मिलता है, तो पहले रिटेलर से पुष्टि करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper