मनोरंजन

मोनेटाइज़ेशन के समान अवसरों के साथ भारतीय क्रिएटर इकॉनमी में क्राँति लाने का सटीक माध्यम बन रहा रोपोसो

भारत के क्रिएटर इकोसिस्टम का विस्तार सतत और निरंतर रूप से जारी है। उक्त विस्तार देश के बढ़ते ~75 करोड़ सक्रिय इंटरनेट यूज़र्स (2022) और किफायती डेटा लागत से प्रेरित है। दिलचस्प बात यह है कि आधे से अधिक इंटरनेट यूज़र्स ग्रामीण क्षेत्रों से ताल्लुक रखते हैं। यह दर्शाता है कि डिजिटल टेक्नोलॉजी की पहुँच और इसे अपनाने का घनत्व कितना गहन और व्यापक है। यह डिजिटल क्राँति देश में क्रिएटर इकॉनमी की अपार वृद्धि के लिए एकदम सटीक पृष्ठभूमि प्रदान करने का माध्यम बनी है।

वर्तमान समय में, अपनी प्रतिभा को उजागर करने के लिए लाखों क्रिएटर्स टेक्नोलॉजी-सक्षम प्लेटफॉर्म्स से लाभान्वित हो रहे हैं, ताकि नए दर्शकों से जुड़ा जा सके, अपने समुदाय का नए सिरे से सृजन और अपने कॉन्टेंट को मोनेटाइज़ किया जा सके। हालाँकि, मोनेटाइज़ेशन क्रिएटर्स के लिए एक प्रमुख चुनौती रही है, क्योंकि इसका लाभ अक्सर उन्हीं क्रिएटर्स को मिलता है, जिनके पास बड़े पैमाने पर दर्शक उपलब्ध हों। इस दृष्टिकोण की वजह से नवोदित और प्रतिभाशाली क्रिएटर्स संघर्ष करने के लिए मजबूर हैं।

इस दृष्टिकोण को बदलने में रोपोसो (Roposo) महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है, जो कि शॉपिंग और लाइव मनोरंजन दोनों के लिए वन-स्टॉप डेस्टिनेशन है। रोपोसो, ग्लांस (Glance) का हिस्सा है, जो कंज्यूमर टेक्नोलॉजी कंपनी है। यह विभिन्न ऐप्स को सर्च और डाउनलोड करने की जरुरत को हटाकर इन्हें एंड्रॉइड स्मार्टफोन की लॉक स्क्रीन पर लाने और साथ ही, यूज़र्स द्वारा इंटरनेट कॉन्टेंट को कंज्यूम करने के तरीके को पुनः परिभाषित करने का सार्थक माध्यम बना है। लाइव हब के रूप में, रोपोसो शॉपिंग और लाइव मनोरंजन से संबंधित तमाम ट्रेंडिंग विषयों के लिए वन-स्टॉप डेस्टिनेशन है, जहाँ यूज़र्स न सिर्फ नवीनतम फैशन ट्रेंड्स के साथ सहजता से जुड़ सकते हैं, बल्कि लाइव म्यूजिक परफॉर्मेंसेस, वर्चुअल फैशन शोज़, इंटरैक्टिव म्यूजिक फेस्टिवल्स, मूवी लॉन्च और लाइव कॉन्टेस्ट्स आदि का आनंद ले सकते हैं।

वर्तमान में, रोपोसो के पास 8 करोड़ से अधिक सक्रिय व्यक्तियों के यूज़र आधार के साथ 500 से अधिक लाइव स्ट्रीमर्स और क्रिएटर्स हैं। उक्त प्लेटफॉर्म मनोरंजन, करंट अफेयर्स, गेमिंग और कॉमर्स जैसी प्रमुख श्रेणियों में 1.5 करोड़ दैनिक सक्रिय यूज़र्स का आँकड़ा पार करते हुए प्रभावशाली सफलता हासिल करने में सक्षम रहा है और यह संख्या लगातार बढ़ रही है।

रोपोसो एक ऐसे विश्व की रचना कर रहा है, जहाँ क्रिएटर्स अपने जुनून और प्रतिभा को स्थायी आजीविका में तब्दील कर सकते हैं। रोपोसो एक गेम-चेंजर साबित हुआ है। यह मानक के विपरीत, रेवेन्यू शेयरिंग एलिजिबिलिटी के लिए क्रिएटर्स को फॉलोअर्स या वॉच ऑवर कोटा में बाध्य नहीं करता है और कॉन्टेंट की शक्ति में दृढ़ता से विश्वास करता है।

यह बात विचार करने योग्य है कि जो उभरते क्रिएटर्स अभी कॉन्टेंट क्रिएशन और लाइव स्ट्रीमिंग की अपनी यात्रा शुरू कर रहे हैं, उनके पास अब न सिर्फ अपनी प्रतिभा को उजागर करने का मौका है, बल्कि वे समान विचारधारा वाले लोगों के समुदायों को भी विकसित कर सकते हैं। इससे भी अधिक उल्लेखनीय यह है कि वे अपने पहले लाइव शो से ही कमाई शुरू कर सकते हैं। यह दृष्टिकोण पूरे भारत में प्रतिभाशाली क्रिएटर्स की एक नई लहर को जन्म दे रहा है।

रोपोसो सिर्फ क्रिएटर्स के प्लेटफॉर्म तक ही सीमित नहीं है, बल्कि यह परिवर्तन का स्त्रोत है। यह सांस्कृतिक पुनरुद्धार की शुरुआत करते हुए कॉमेडी, फैशन, के-पॉप और हिप-हॉप जैसी शैलियों को पुनः जीवित कर रहा है। महत्वपूर्ण रूप से, यह क्रिएटर्स को ऐसे अवसरों से जोड़ने वाली गिग इकॉनमी में भी सहायता कर रहा है, जो उनके काम करने और आगे बढ़ने के तरीके को पुनः परिभाषित करता है।

रितेश देशमुख और जेनेलिया देशमुख द्वारा हाल ही में निर्देशित मराठी फिल्म ‘वेद’ में अभिनय करने वाले अभिनेता करण परब ने कहा, “मेरे सबसे कठिन दिनों के दौरान रोपोसो ने मुझे वित्तीय स्थिरता प्रदान की है। इससे मुझे मराठी फिल्म इंडस्ट्री में अपनी आकांक्षाओं को आगे बढ़ाने का समय और आत्मविश्वास मिला। इसने मुझे अपनी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने वाले प्रोजेक्ट्स का चयन करने के बजाय उन कहानियों को चुनने की इजाजत दी, जिनकी मैं वास्तव में परवाह करता हूँ।” वे वर्तमान में डेटिंग और मेन्टल हेल्थ पर लाइव शोज़ करते हैं और भविष्य में और अधिक विषयों को शामिल करने के इच्छुक हैं। उन्होंने आगे कहा, “इस प्लेटफॉर्म ने मुझे मेरे भीतर के व्यक्ति को खोजने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जो मेरे फिल्मी करियर में लगातार मेरी मदद कर रहा है।”

इसी तरह, कोलकाता की श्रेया चक्रवर्ती का बचपन से ही मेकअप आर्टिस्ट बनने का सपना था, जिन्हें अपनी किशोरावस्था के दौरान कई तरह के ताने झेलने पड़े और शारीरिक छवि की वजह से कई तरह के मुद्दों से गुजरना पड़ा। रोपोसो ने उन्हें एक मेकअप आर्टिस्ट के रूप में पहचान दिलाई। उन्होंने कहा, “मेरे पहले लाइव शो में, मेरे पास 20,000 से अधिक दर्शक थे, और उस दिन के बाद से मैंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। रोपोसो ने न सिर्फ मेरा आत्मविश्वास बढ़ाया है और मेरे सपनों को हकीकत में बदल दिया है, बल्कि मुझे अपने जुनून को आगे बढ़ाने और अपने भविष्य के लिए बचत करने के लिए वित्तीय स्वतंत्रता भी दी है। वास्तव में, जब भी मेरे शोज़ बेहतर प्रदर्शन करते हैं, तो रोपोसो मेरे साथ रेवेन्यू शेयर करता है, और मुझे हर दिन बेहतर करने के लिए प्रेरित करता है।”

मैंगलोर के 22 वर्षीय फाइनेंस क्रिएटर रेशी मगाडा ने कहा, “यह मायने नहीं रखता है कि आप कितना कमा रहे हैं, आय का नियमित प्रवाह होना महत्वपूर्ण है। एक कॉन्टेंट क्रिएटर के रूप में, मेरी पूरी आय उन ब्रैंड्स पर निर्भर करती है, जिनके साथ मैं साझेदारी करता हूँ। हर महीना अलग होता है, किसी महीने मेरे पास बहुत सारे ब्रैंड्स की डील्स होती हैं और किसी महीने एक भी नहीं। लेकिन रोपोसो की तरफ से, हर महीने मेरे खाते में एक स्थिर आय आती है, जो सुरक्षा की उच्च भावना देती है और यह बहुत महत्वपूर्ण है।”

वैश्विक स्तर पर, पहले से ही क्रिएटर्स की संख्या 20 करोड़ से अधिक है, और भारत इसमें अग्रणी बनने के लिए तैयार है, इस वर्ष यह संख्या 10 करोड़ से अधिक होने की उम्मीद है। लाइव मनोरंजन का भविष्य एक ऐसा परिदृश्य है, जो निरंतर विकसित हो रहा है, और रोपोसो जैसे प्लेटफॉर्म्स इस दौड़ में सबसे आगे हैं। यह एक जीवंत समुदाय को बढ़ावा देने वाले क्रिएटर्स की अगली पीढ़ी को प्रोत्साहित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है, जहाँ यूज़र्स और क्रिएटर्स दोनों जुड़ते हैं और सीखते हैं। लेकिन, सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि रोपोसो तमाम क्रिएटर्स को मोनेटाइज़ेशन के सुदृढ़ अवसर प्रदान कर रहा है, जो अंततः क्षेत्र में लाइव कॉन्टेंट की गुणवत्ता को बढ़ाने के साथ ही एक न्यायसंगत क्रिएटर इकॉनमी का मार्ग प्रशस्त कर रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper