अमरनाथ यात्रा के लिए 4,898 तीर्थयात्रियों का एक और जत्था रवाना

श्रीनगर । अमरनाथ यात्रा शुरू होने के बाद से गुफा मंदिर के दर्शन करने वाले भक्तों की संख्या अब 2 लाख तक पहुंचने वाली है। बीते सोमवार को 15,000 से अधिक तीर्थयात्रियों ने गुफा मंदिर में दर्शन किए। श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड (एसएएसबी) के अधिकारियों ने कहा, “इस साल 30 जून को यात्रा शुरू होने के बाद से 1,99,453 ने यात्रा की है। सोमवार को 15,642 यात्रियों ने पवित्र गुफा में दर्शन किए।”

एक तीर्थयात्री का सोमवार को निधन हो गया, जिससे अब तक प्राकृतिक कारणों से मरने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या 32 हो गई है। अधिकारियों ने कहा कि 4,898 तीर्थयात्रियों का एक और जत्था मंगलवार को जम्मू के भगवती नगर आधार शिविर से घाटी के लिए रवाना हुआ।

इनमें से 3062 पहलगाम के रास्ते जा रहे हैं, जबकि 1836 बालटाल के रास्ते जा रहे हैं। बालटाल मार्ग का उपयोग करने वालों को गुफा मंदिर तक पहुंचने के लिए 14 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। वे दर्शन करने के बाद उसी दिन आधार शिविर में लौट आते हैं। पारंपरिक पहलगाम मार्ग का उपयोग करने वालों को गुफा मंदिर तक पहुंचने के लिए चार दिनों के लिए 48 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है।

यात्रियों के लिए दोनों मार्गो पर हेलीकॉप्टर सेवाएं उपलब्ध हैं। अमरनाथ यात्रा 30 जून को शुरू हुई और 43 दिनों के बाद 11 अगस्त को समाप्त होगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper