अर्पिता मुखर्जी के मेंटनेंस न भरने पर आईपीएस अधिकारी ने दी वफादारी की मिसाल, कहा- ‘नोटिस लगने के बाद भी दूसरे के पैसे को संभाला’

बंगाल : शिक्षा भर्ती घोटाले को लेकर अर्पिता मुखर्जी (Arpita Mukherjee) पिछले कई दिनों से लगातार सोशल मीडिया (Social Media) पर सुर्खियों में बनी हुई हैं। आए दिन उनसे जुड़े कई नए मामले सामने आ रहे हैं। अर्पिता को लेकर आईपीएस अधिकारी द्वारा किया गया एक ट्वीट इस वक्त सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। बता दें, वैसे तो अर्पिता एक मॉडल और एक्ट्रेस है, लेकिन उनके सुर्खियों में रहने की वजह उनकी मॉडलिंग नहीं, बल्कि उनके घर से ED द्वारा प्राप्त की गई करोड़ों रुपयों की अवैध संपत्ति है।

आईपीएस अधिकारी अरुण बोथरा (Arun Bothra) ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर (Twitter) पर अर्पिता के घर के मेंटनेंस (Maintenance) और प्राप्त किये गए अवैध रुपयों की फोटो शेयर करते हुए लिखा ‘कुछ भी कहो पर अर्पिता जी ने वफादारी की मिसाल कायम की है। खुद के ऊपर सोसाइटी (Society Maintenance) के 11,809 रुपये बाकी थे, दरवाजे पर नोटिस (Notice) लग गया पर दूसरे के पैसे को पूरा संभाल कर रखा।’

गौरतलब है कि अर्पिता मुखर्जी बंगाल के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी की सहयोगी बताई जा रही हैं। अर्पिता के घर पर पड़े प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के छापों से अब तक करीब 53 करोड़ रुपयों से अधिक का कालाधन बरामद हो चुका है। जिसको लेकर ताजा खुलासों ने बंगाल में राजनीतिक सरगर्मियों को तेज कर दिया है। आईपीएस अधिकारी के ट्वीट पर भी लोगों ने चुटकी लेते हुए अपना रिएक्शन दिया है। एक यूजर ने लिखा कि छुट्टे पैसे नहीं रहे होंगे मेंटनेंस भरने के लिए तो वहीं दूसरे यूजर ने लिखा, ‘लेकिन ED को भी मानना पड़ेगा.. खोद लिया बिल्कुल.. इतने ड्रामे के बाद भी।’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper