आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर योगेश एम जोशी, सोसाइटी ऑफ रियोलॉजी के 2022 फेलो के रूप में चुने जाने वाले पहले भारतीय बने

कानपुर: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), कानपुर के लिए एक बड़े सम्मान के रूप में, केमिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रो. योगेश एम जोशी को सोसाइटी ऑफ रियोलॉजी, 2022 के फेलो में से एक के रूप में चुना गया है। वह इस प्रतिष्ठित सम्मान के लिए चुने जाने वाले पहले भारतीय हैं।
सोसाइटी ऑफ रियोलॉजी फैलोशिप एक प्रतिष्ठित स्थिति है जिसके लिए किसी भी पात्र के नाम एक महत्वपूर्ण तकनीकी उपलब्धि हो या रियोलॉजी के क्षेत्र में उत्कृष्ट छात्रवृत्ति के लिए विशिष्ट वैज्ञानिक उपलब्धि के इतिहास हो वो उसे ही मान्यता देते हैं।” वे एक महत्वपूर्ण घटक के रूप में ‘समाज की सेवा’ और सोसाइटी ऑफ रियोलॉजी के सदस्य के रूप में न्यूनतम 8 वर्ष की अवधि को भी ध्यान में रखते हैं। वार्षिक रूप से केवल 0.5% सदस्य ही इस फेलोशिप के लिए पात्र होते हैं।

प्रो. अभय करंदीकर, निदेशक, आईआईटी कानपुर ने इस मौके पर कहा कि, “प्रो. योगेश जोशी को वर्ष 2022 के लिए सोसाइटी ऑफ रियोलॉजी के फैलो में से एक के रूप में चुने जाने के लिए बहुत बहुत बधाई। यह वास्तव में संस्थान के लिए बहुत गर्व की बात है। यह आईआईटी कानपुर के अनुसंधान और नवाचार पारिस्थितिकी तंत्र के लिए और अधिक मूल्यवान स्थिति प्रदान करेगा और संस्थान में हर किसी को विज्ञान और प्रौद्योगिकी क्षेत्र में उत्कृष्टता के लिए प्रयास जारी रखने की भावना को बढ़ावा देगा। ”

प्रोफेसर योगेश एम जोशी ने 1996 में पुणे विश्वविद्यालय से पॉलिमर इंजीनियरिंग में इंजीनियरिंग में स्नातक की उपाधि प्राप्त की और 2001 में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान बॉम्बे से केमिकल इंजीनियरिंग में पीएच.डी की । नेशनल केमिकल लेबोरेटरी और न्यूयॉर्क CUNY के बेंजामिन लेविच इंस्टीट्यूट सिटी कॉलेज में डॉक्टरेट और पोस्टडॉक्टोरल अध्ययन के बाद, वह 2004 में वो भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर के केमिकल इंजीनियरिंग विभाग का हिस्सा हो गए। वह वर्तमान में पंडित गिरीश और सुषमा रानी पाठक आईआईटी कानपुर चेयर के अध्यक्ष हैं।

रचना: राजीव कांत जैन

डॉ. जोशी के प्राथमिक रियोलॉजिकल कार्य में नरम कांच की सामग्री, सोल-जेल संक्रमण और कोलाइडल फैलाव के चरण व्यवहार शामिल हैं। सोल-जेल प्रक्रिया छोटे अणुओं से ठोस पदार्थ बनाने की एक विधि है। डॉ. जोशी लैंगमुइर के वरिष्ठ संपादक हैं, जो एक वैज्ञानिक पत्रिका है जिसे 1985 में स्थापित किया गया था और अमेरिकन केमिकल सोसाइटी द्वारा प्रकाशित की जाती है, और साथ ही वो जर्नल ऑफ रियोलॉजी, रियोलोगिका एक्टा और फिजिक्स ऑफ फ्लूड्स के संपादकीय बोर्डों में भी हैं ।

प्रो. जोशी को कई प्रमुख वैज्ञानिक पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। 2015 में, उन्हें भारत सरकार द्वारा इंजीनियरिंग विज्ञान में शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार और रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन 2019 के अकादमी उत्कृष्टता पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 2016 में, उन्हें भारतीय राष्ट्रीय इंजीनियरिंग अकादमी के फेलो और 2017 में, नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज, भारत के फेलो के रूप में चुना गया था । वह यूपीएल लिमिटेड और यूनिलीवर Inc. सहित कई उद्योग के साथ उत्पादों के प्रवाह व्यवहार और रियोलॉजिकल स्थिरता में सुधार के संबंध में सक्रिय रूप से परामर्श करते है।

आईआईटी कानपुर के बारे में:
भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) कानपुर की स्थापना 2 नवंबर 1959 को संसद के एक अधिनियम द्वारा की गई थी। संस्थान का विशाल परिसर 1055 एकड़ में फैला हुआ है, जिसमें 17 विभागों, 25 केंद्रों और 5 अंतःविषय कार्यक्रमों के साथ इंजीनियरिंग, विज्ञान, डिजाइन, मानविकी और प्रबंधन विषयों में शैक्षणिक और अनुसंधान संसाधनों के बड़े पूल के साथ 480 पूर्णकालिक फैकल्टी सदस्य और लगभग 9000 छात्र हैं। औपचारिक स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के अलावा, संस्थान उद्योग और सरकार दोनों के लिए महत्वपूर्ण क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास में सक्रिय योगदान देता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper