इन 5 बातों से पहचान सकती हैं कि आपका पार्टनर आपको लेकर सीरियस है या कर रहा है टाइमपास

नई दिल्ली. आजकल जितनी तेजी से समय नहीं बदल रहा उससे कही ज्यादा तेज रिश्ते और रिश्तों के मायने बदलने लगे हैं. खासकर प्यार और रिलेशनशिप्स की बात करें तो कब कौन धोखा खा जाए, कौन किसके लिए क्या फील करे, कौन सिर्फ कुछ समय का साथ चाहता है और कौन आपको शादी का झांसा देकर बैठा है, कुछ कह नहीं सकते. वैसे तो यह बातें लड़के और लड़कियों दोनों पर लागू हो सकती हैं लेकिन इस लेख में सिर्फ लड़कों की उन आदतों या हरकतों के बारे में बताया जा रहा है जिनसे पता लगाया जा सकता है कि आपका बॉयफ्रेंड आपके साथ सचमुच सीरियस रिलेशनशिप में है या फिर कुछ ही दिनों के लिए सिर्फ टाइमपास कर रहा है.

कई बार आप किसी के साथ प्यार में होती हैं, उसे अपना समय देती हैं, आप दोनों एक साथ करीबी पल भी बिताते हैं फिर भी आपको महसूस होता है कि आप उनका समय बर्बाद कर रही हैं या फिर बोझ बन रही हैं. कभी आप उन्हें अपने काम से रोकना भी चाहें तो आपको यह महसूस कराया जाता है या खुद ही एहसास होने लगता है कि आपने जबरदस्ती किसी को परेशान किया है. जबकि खुदके बॉयफ्रेंड को अपने काम के लिए आप हक से रोक सकती हैं इसमें बुरा फील करने वाली बात नहीं है.

जब आप अपने बॉयफ्रेंड से लड़ाई या झगड़ा करती हैं तो वह या तो आपको मना सकता है या इग्नोर करता है. लेकिन, इन दोनों ही बातों से आप पता कर सकती हैं कि उसे आपकी नाराजगी की परवाह है या नहीं. अगर वह लड़ाई होने पर एक हफ्ता या कहें 15 -20 दिन तक आपको कोंटेक्ट नहीं करता या फिर आपको मनाने तो आता है लेकिन आप पर हर गलती थोप कर अपनी गलती मानने की बजाय ऐसे रिएक्ट करता है कि कुछ हुआ ही नहीं तो आप कह सकती हैं कि उसे आपकी परवाह नहीं है. ऐसा इसलिए क्योंकि जब लोग फिक्र करते हैं तो आपकी फीलिंग्स को दबाते नहीं है. आपको आपके हाल पर कई-कई दिनों तक छोड़कर अपनी दुनिया में मस्त नहीं रहते.

जब दो लोग एकसाथ जिंदगी बिताना चाहते हैं तो वे एकदूसरे की सूरत से कही ज्यादा सीरत पर ध्यान देते हैं. आपका बॉयफ्रेंड आपके साथ एक सीरियस रिलेशनशिप में है और भविष्य की फिक्र करता है तो आपकी समझदारी, दयालुता, होशियारी, मुस्कुराहट, हंसने का तरीका, पढ़ने या गाने सुनने की आदत, पसंद और नापसंद, दोस्त और ना जाने क्या-क्या जानने के लिए उत्सुक रहता है. लेकिन, जिसके लिए आप सिर्फ टाइमपास होंगी वह आपसे आपकी खूबसूरती और निजी पलों की बातों पर ही हमेशा गौर करेगा. उसके लिए आपकी फिजिकल अपीयरेंस आपकी मेंटल स्ट्रेंथ से ज्यादा जरूरी होगी.

रिलेशनशिप में होने का मतलब यह बिल्कुल भी नहीं है कि आप एकदूसरे की पूरी जिंदगी के बारे में ही जान लें या एक महीने में ही भूत, भविष्य और वर्तमान काल का अंदाजा लगा लें. लेकिन, एकदूसरे के बारे में रिलेशनशिप से हटकर कुछ अलग पता ही ना होना भी अटपटा है. आपका पार्टनर आपसे कुछ भी साझा ना करे तो आप अंदाजा लगा सकती हैं कि वह कितना सीरियस है आपके लिए और कितना नहीं. कम से कम सीरियस होने पर आपको इतना तो पता होता ही है कि उसके परिवार में कौन है, किसके साथ उसके कैसे संबंध हैं, फ्री टाइम में वह क्या करता है वगैरह वगैरह.

रिलेशनशिप में शारीरिक संबंधों पर बात होना या फिर फिजिकली एक्टिव होना कोई नई बात नहीं है, लेकिन हर बार ही आपके बॉयफ्रेंड की सूंई शारीरिक संबंधों पर आकर रुक जाती है तो आपको दिमाग से काम लेने की जरूरत है. सीरियस रिलेशनशिप प्यार, भरोसे, लगाव, अपनेपन, हंसी-ठिठोली और रोमांच से भरी होती है सिर्फ सेक्स से नहीं. अगर आप दोनों सिर्फ शारीरिक संबंधों के लिए आपसी सहमति से साथ हैं तो बात अलग है पर आप कुछ अलग एक्सपेक्ट करती हैं और आपका बॉयफ्रेंड कुछ और तो आपको उनसे सही तरह से बात करने की जरूरत है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper