खूबसूरत दिखने पार्लर गई थी महिला, लौटी तो छूट गई सबकी हंसी

मुंबई: हर महिला की दिली ख्वाहिश होती है कि वह भी खूबसूरत और जवां दिखाई दे। जिसके लिए कुछ महिलाएं कॉस्मेटिक्स या सर्जरी की सहायता भी लेती हैं। लेकिन कई मर्तबा ये एक्सपेरिमेंट डरावना या हास्यास्पद भी बन जाता है। थाईलैंड की एक महिला के साथ कुछ ऐसा ही हुआ। ये महिला गई तो थी अपने चेहरे की खूबसूरती में चार-चांद लगवाने के लिए। लेकिन ट्रीटमेंट के उपरांत जब घर लौटी, तो आइने में अपनी शक्ल देखकर घबरा चुकी है। चेहरा सुंदर दिखने के बजाए और भी अधिक भयानक दिखने लग गया आपको जानकर हैरानी होगी कि महिला के चेहरे पर चार-चार भौहें निकल आए थे।

ये अजीबोगरीब घटना रयोंग प्रांत की रहने वाली निपाप्रॉन मीकिंग के साथ घटी। दरअसल, दोस्तों संग ट्रिप पर जाने से पहले निपाप्रॉन ने एक टैटू बनवाया था। लेकिन इसके उपरांत उनके चेहरे पर दो नहीं बल्कि चार-चार आईब्रोज निकल आए। ये देखकर महिला घबरा उठी। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वह अब इसे कैसे ठीक करने वाली है।

ख़बरों का कहना है कि 32 वर्ष की निपाप्रॉन को उसकी किसी दोस्त ने टैटू के जरिए खूबसूरत आईब्रोज बनवाने की सलाह दी थी। इसके उपरांत उन्होंने ‘अ होल इन द वॉल’ नाम की एक क्लीनिक में आईब्रो टैटू बनवाया। लेकिन घर लौटने के बाद उनका कॉन्फिडेंस बिल्कुल हिल गया । क्योंकि, माथे पर चार आईब्रोज नजर आने लग गए। निपाप्रॉन का कहना है कि, उन्होंने परमानेंट टैटू बनवाने के लिए 35 पाउंड यानी तकरीबन 3200 रुपये खर्च भी कर दिए। लेकिन परिणाम बेहद डरावना रहा। जिसके उपरांत उन्होंने क्लीनिक में कॉन्टैक्ट करने की कई नाकाम प्रयास भी रहे। आखिर में उन्होंने दूसरे टैटू आर्टिस्ट की मदद ली, तब जाकर उनका चेहरा ठीक हो पाया।

कॉस्मेटिक टैटू आर्टिस्ट पट्टावी फुमकासेमी ने 3 माह में निपाप्रॉन के पुराने आईब्रो को हटाकर नई आईब्रो बनाई। उन्होंने ये कार्य फ्री में किया है। बता दें कि इससे पहले निपाप्रॉन 3 टैटू आर्टिस्ट के पास जा चुकी थीं, लेकिन सबने इंकार कर दिया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper