गले में क्यों पहनते हैं काला धागा? जानें क्या है ज्योतिष में इसका महत्व

नई दिल्ली. अक्सर आपने बहुत से लोगों को पैर और गले में काला धागा पहने हुए देखा होगा, जिसको लेकर कई तरह की धार्मिक मान्यताएं हैं. एक मान्यता यह भी है कि काला धागा पहनने से बुरी नजर नहीं लगती. इससे पहले एक आर्टिकल में हमने जाना था- पैर में काला धागा पहनने के फायदे और उसके नियम. आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे गले में काला धागा पहनने का महत्व. इस विषय में अधिक जानकारी दे रहे हैं भोपाल के रहने वाले ज्योतिषी एवं पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा.

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि ग्रह का संबंध काले रंग की वस्तुओं से होता है. काला रंग शनि ग्रह का रंग माना जाता है. मनुष्य के जीवन में आ रही समस्याओं का संबंध भी शनि ग्रह से ही जोड़ा जाता है. हर व्यक्ति शनि के दुष्प्रभाव से बचने के लिए काले रंग से जुड़े कई ज्योतिष उपाय करता है. शनि की बुरी नजर से बचने के लिए ज्योतिष शास्त्र में काले रंग का धागा गले में धारण करने की सलाह दी जाती है. इससे आपके जीवन में आ रही समस्याओं को काफी हद तक कम किया जा सकता है.

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जो व्यक्ति गले में काला धागा धारण करते हैं, उन पर शनि देव अपनी कुदृष्टि नहीं रखते. काला धागा शनि देव को आकर्षित करता है जो मनुष्य के लिए लाभदायक होता है. ऐसे व्यक्ति के लिए शनि परेशानी का कारण ना बनते हुए उनकी सफलता में सहयोगी बन जाते हैं.

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जो व्यक्ति काला धागा धारण करते हैं, वे बुरी शक्ति के प्रभाव से बच जाते हैं. इसके अलावा नकारात्मक ऊर्जा को काला धागा अवशोषित करके शरीर पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ने देता. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गले में काला धागा धारण करना सभी के लिए लाभदायक सिद्ध हो सकता है परंतु बच्चों को काला धागा पहनाने से पहले उसकी लंबाई का ध्यान रखें, ताकि वह किसी चीज में फंस कर बच्चे को नुकसान ना पहुंचा पाए.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper