गुरुग्राम में ‘आफत’ की आंधी, रातभर गुल रही बिजली, पानी की आपूर्ति भी प्रभावित

गुरुग्राम: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम के मिलेनियम सिटी में सोमवार देर शाम चली तेज आंधी की वजह से शहर के करीब 12 इलाकों में बत्ती गुल हो गई। लगभग दस घंटे तक पुराने और नए शहर के इन इलाकों में बिजली संकट गहराया रहा। मंगलवार सुबह नौ बजे तक भी इन इलाकों में बिजली आपूर्ति बहाल नहीं हो पाई। इसके साथ ही यहां के लिए पेयजल संकट का भी सामना करना पड़ा।

बिजली निगम के अधिकारियों के मुताबिक, शहर के कई इलाकों में आंधी के चलते पेड़ टूट गए थे। पेड़ टूटकर बिजली के तारों पर गिरे जिस वजह से बिजली कटौती का सामना करना पड़ा। पूरी रात शिकायतें मिलने के बाद बिजली निगम के कर्मचारी भी फॉल्ट सही करने में लगे रहे। आंधी की वजह से बिजली निगम के 50 से अधिक फीडर ब्रेकडाउन हो गए। सेक्टर-9, सेक्टर-82 आदि इलाकों में आंधी के कारण पेट टूट कर बिजली के तारों पर गिर गए थे। इस कारण कई जगहों पर बिजली के केबल भी टूट गए।

कई जगह लोकल फॉल्ट की वजह से भी बत्ती गुल हो गई। आंधी चलने के बाद शहर के ज्यादातर हिस्से में बिजली आपूर्ति प्रभावित हो गई थी। हालांकि आंधी रुकने के कुछ देन बार अधिकतर इलाकों में बिजली आपूर्ति बहाल हो गई थी, मगर सेक्टर-53, सेक्टर-56, सेक्टर-57, सेक्टर-4, सेक्टर-81, सेक्टर-18, सेक्टर-37, सेक्टर-38, सेक्टर-78, सेक्टर-9, न्यू पालम विहार और सुशांत लोक-1 व दो में बिजली दस घंटे तक गुल रही।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper