गुरुवाणी के साथ सोशल मीडिया यूजर्स से जुड़ रहा स्वदेशी ऐप

गुरु ही ब्रह्मा है, गुरु ही विष्णु है और गुरु ही भगवान शंकर है। गुरु ही साक्षात परब्रह्म है। आपने कई बार इस बात से जुड़ा श्लोक जरूर सुना होगा। गुरु की महिमा समूचे जगत में है और फिर इंटरनेट इससे कैसे अछूता रह सकता है। इसी कड़ी में गुरुवार का दिन भी स्वदेशी सोशल मीडिया प्लेटफार्म कू ऐप पर अनमोल गुरुवाणी से भरा देखने को मिला।

आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर ने अपने आधिकारिक अकाउंट से शेयर किया, “प्रकृति के नियमों (व्याख्या या तर्क से परे एक शक्ति) में भरोसा रखें। लोगों की भलाई में भरोसा रखें। खुद पर भरोसा रखो।” जबकि सद्गुरु की पोस्ट से यूजर्स को हकीकत समझने का मौका मिला। एक क्रिएटिव पोस्ट के साथ सद्गुरु ने अपने कू अकाउंट से एक पोस्ट को शेयर किया, “सच्चाई के संपर्क में आने का एकमात्र तरीका है – बिना कोई निष्कर्ष निकाले, बस ध्यान देना।”

अपनी अमृत वाणी से श्रोताओं का उद्धार कर रहे स्वामी अवधेशानंद सरस्वती की कू पोस्ट भी ज्ञान और अज्ञान के बीच के भेद को समझeने से संबंधित रही। उन्होंने लिखा, भ्रम और अज्ञान जीवन की महान चुनौतियाँ हैं और उनसे पार पाने के लिए ज्ञान की तलाश करें। ज्ञान हमें सशक्त, उन्नत और प्रबुद्ध करता है। यह शांति और शक्ति देता है।

लगभग हर क्षेत्र और वर्ग के बीच कू ऐप की प्रसिद्धि बढ़ी है और बड़ी संख्या में धार्मिक, खेल या राजनीति से जुड़ी हस्तियां 10 विभिन्न भाषाओं में कू ऐप का इस्तेमाल कर रही हैं। कू ऐप के माध्यम से कई सरकारी कार्यों से जुड़े अकाउंट भी क्षेत्रीय भाषाओं में सीधे लोगों से जुड़े रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper