घर में चोरी का मनी प्‍लांट लगाना शुभ या अशुभ? यहाँ जाने सही जवाब

नई दिल्ली। वास्तु शास्त्र में मनी प्लांट को बहुत महत्‍वपूर्ण माना गया है. इसे धन, सुख-समृद्धि देने वाला प्‍लांट माना गया है. मनी प्‍लांट लगाने से पूरा लाभ मिले इसके लिए जरूरी है कि सारे नियमों का पालन किया जाए. यानी कि मनी प्‍लांट रखने की दिशा सही हो, उसे लगाने का तरीका सही हो, आदि.

माना जाता है कि चोरी किया हुआ मनी प्‍लांट लगाना ही लाभ देता है. इसलिए लोग दूसरों के घर से मनी प्‍लांट चोरी करके लगाते हैं. जबकि वास्‍तु शास्‍त्र में ऐसा कोई उल्‍लेख नहीं है. बल्कि बेहतर होगा कि नर्सरी से या किसी से मांगकर ही मनी प्‍लांट लगाएं.

– मनी प्‍लांट हरे रंग की कांच की बोतल या मिट्टी के गमले में लगाना ही शुभ होता है. ध्‍यान दें कि प्‍लास्टिक की बोतल या गमले में मनी प्‍लांट न लगाएं.
– मनी प्‍लांट की बेल हमेशा ऊपर की ओर जाना चाहिए. मान्‍यता है कि जैसे-जैसे मनी प्‍लांट की बेल बढ़ती है, वैसे-वैसे घर के लोगों की तरक्‍की होती है.
– कभी भी सूखा हुआ मनी प्‍लांट घर में न रखें. मनी प्‍लांट की सूखी बेल या पत्तियां नकारात्‍मकता लाती हैं.
– मनी प्‍लांट को हमेशा दक्षिण-पूर्व दिशा में लगाना चाहिए. इससे यह सबसे ज्‍यादा फल देता है.
– घर में मनी प्लांट लगाने से कुंडली में शुक्र ग्रह मजबूत होता है और खूब धन-दौलत देता है.

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper