जम्मू-कश्मीर में मिली सीमा पार सुरंग, अमरनाथ यात्रा बाधित करने की योजना नाकाम : बीएसएफ

जम्मू। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने गुरुवार को कहा कि उसके सैनिकों ने जम्मू-कश्मीर के सांबा जिले में अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर एकसुरंग का पता लगाया है। इस प्रकार आगामी अमरनाथ यात्रा को बाधित करने के लिए पाकिस्तान स्थित आतंकवादियों के मंसूबों को विफल कर दिया गया है। बीएसएफ के प्रवक्ता, पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) एस.पी.एस. संधू ने एक बयान में कहा, “पाकिस्तान के नापाक मंसूबों में सेंध लगाते हुए बीएसएफ जम्मू ने 4 मई 2022 को सांबा इलाके के सामने बीओपी चक फकीरा के इलाके में सीमा पार सुरंग का पता लगाया।”

बीएसएफ ने कहा कि डेढ़ साल से भी कम समय में यह पांचवीं सुरंग मिली है। संधू ने कहा, “इस सुरंग का पता लगाना इस क्षेत्र में किए गए एक पखवाड़े में लंबे सुरंग विरोधी अभ्यास के दौरान बीएसएफ सैनिकों के कठोर और लगातार प्रयासों का परिणाम है। यह सुरंग ताजा खोदी गई है और लगभग 150 मीटर लंबी होने का संदेह है। उन्होंने कहा, “इस सुरंग का पता लगाने के साथ, बीएसएफ जम्मू ने आगामी अमरनाथ यात्रा को बाधित करने के लिए पाकिस्तान स्थित आतंकवादियों के नापाक मंसूबों को विफल कर दिया है।”

सुरंग के आकार के बारे में विवरण देते हुए, डीआईजी ने कहा, “सुरंग की गहराई लगभग 2 फीट है और अब तक 21 रेत के थैले बरामद किए गए हैं जिनका उपयोग सुरंग के निकास को मजबूत करने के लिए किया गया था। सुरंग की विस्तृत तलाशी दिन के दौरान की जाएगी। जम्मू बीएसएफ के आईजी डीके बूरा ने इस सुरंग का पता लगाने में बीएसएफ सैनिकों की भक्ति और समर्पण की सराहना की। डेढ़ साल से भी कम समय में यह पांचवीं सुरंग का पता चला है। इसने भारत में परेशानी पैदा करने के लिए पाकिस्तान प्रतिष्ठान की बुरी रणनीति को दिखाया है।

उन्होंने कहा, “बीएसएफ हमेशा सीमाओं की सुरक्षा और सीमा आबादी के बीच सुरक्षा की भावना पैदा करने में सबसे आगे रहा है।” उन्होंने कहा कि आगे भी संभावित सुरंगों का पता लगाने के लिए बीएसएफ के प्रयास जारी रहेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper