जानिए रेल यात्रा के समय आप कितना ले जा सकते है luggage,वरना देना पड़ सकता है जुर्माना

 


Indian Railway :हमारे देश भारत में ट्रेन से यात्रा करना काफी ज्यादा पसंद किया जाता है क्योंकि ट्रेन से यात्रा करना काफी ज्यादा सुविधाजनक होता है. लंबी दूरी हो या कम दूरी लोग ट्रेन से यात्रा करना पसंद करते हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि ट्रेनों में यात्रा के दौरान आप कितना सामान ले जा सकते हैं. अधिक सामान ले जाने पर आपके ऊपर जुर्माना भी हो सकता है.

Indian Railway :कोच की कैटेगरी के ह‍िसाब से न‍ियम
इंड‍ियन रेलवे ने ट्रेन के कोच के हिसाब से सामान का वजन निर्धारित कर रखा है. एक यात्री अधिकतम 40 किलो से लेकर 70 किलोग्राम तक की सामान लेकर यात्रा कर सकता है. आपको बता दें कि हर क्लास के टिकट पर अलग-अलग सामान का वजन तय किया गया है.

फर्स्ट एसी का नियम

फर्स्ट एसी से ट्रैवल करने पर यात्री अपने साथ 70 किलो सामान लेकर यात्रा कर सकता है. अत‍िर‍िक्‍त चार्ज देकर आप अपने साथ 150 किलोग्राम सामान लेकर भी यात्रा कर सकते हैं.

सेकंड एसी

सेकंड एसी से यात्रा करने पर 35 किलोग्राम तक सामान लेकर जाने की छूट है. लेक‍िन अत‍िर‍िक्‍त चार्ज देकर आप अधिकतम 70 किलोग्राम तक सामान ले जा सकते हैं.

स्लीपर क्लास

स्लीपर क्लास में यात्रा करने के दौरान 40 किलोग्राम तक सामान ले जाने की अनुमत‍ि है. रेलवे की तरफ से तय चार्ज देकर आप अधिकतम 80 किलोग्राम तक सामान ले जा सकते हैं. इससे अधिक सामान ले जाने पर आप पर जुर्माना लगाया जा सकता है. रेलवे ने सामान ले जाने के लिए यह नियम बनाया है। जरूरी है कि आप यात्रा से पहले इन नियमों का ध्यान रखें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper