जाने कैसे श्रीनाथ स्टेशन पर मिलने वाले फ्री वाईफाई से पढ़ाई करके बने अफसर

ना तकलीफ है ना संघर्ष तो क्या मजा है जीने में, तूफान भी थम जाएगा अगर लक्ष्य बड़ा हो सीने में, यह लाइन को श्रीनाथ ने सच कर दिखाया। कहते हैं अगर आप दिल से कामयाबी पाने की कोशिश करते हैं तो किस्मत भी आपका साथ देती है। अक्सर आपने सुना होगा कि किस्मत भी मेहनती लोगों का ही साथ देती है। यह उदाहरण एर्नाकुलम के एक स्टेशन पर काम करने वाले कुली के लिए काफी सटीक बैठती है।

लोग यूपीएससी की परीक्षा पास करने के लिए बड़े-बड़े कोचिंग इंस्टिट्यूट में पढ़ते हैं। हर साल लाखों की संख्या में अभ्यर्थी परीक्षा में बैठते हैं लेकिन पास कुछ ही अभ्यर्थियों पाते हैं। इस परीक्षा को पास करना काफी मुश्किल होता है क्योंकि इसे देश का सबसे कठिन परीक्षा माना जाता है।लेकिन कुछ ऐसे अभ्यर्थी होते हैं जो इस परीक्षा को कई मुश्किल आने के बाद भी पास कर दिखाते हैं।

केरल के एर्नाकुलम स्टेशन पर कुली का काम करने वाले श्रीनाथ ने अपने इंटरव्यू में अपनी सफलता की कहानी बताएं। उन्होंने बताया कि वह स्टेशन पर 5 साल तक कुली का काम किए हैं और अपने आईएएस की तैयारी में उन्होंने किसी की मदद नहीं ली। वह स्टेशन पर मिलने वाले फ्री वाई-फाई के जरिए अपनी पढ़ाई करते थे।

उनके पास ईयर-फोन और फोन के अलावा और कुछ भी नहीं था। ना ही उनके पास इतने पैसे थे कि वह अपनी कोचिंग की फीस भर सकें। ऐसे में फ्री वाईफाई की मदद से वह अकेले ही अपने इस सफर पर चल पड़े। फ्री वाई-फाई की मदद से वह अपनी पढ़ाई पर ध्यान देने लगे और वह सफल भी हुए। स्टेशन पर लोग का सामान ढोते हुए विकास में एयर फोन लगाए रहते हैं और क्लासेज का वीडियो सुनते। वीडियो के जरिए शिक्षकों का लेक्चर सुनते और जब भी उन्हें टाइम मिलता है वह इस चीज का रिवीजन करते थे।

केरल के एर्नाकुलम रेलवे स्टेशन पर यात्रियों का सामान ढोने के समय उन्हें जो भी वक्त मिलता वह अपनी परीक्षा की तैयारी में लगाते। इस दौरान उन्होंने ऑडियो बुक्स और डिजिटल क्लासिस को सुनकर अपनी सिविल सर्विस परीक्षा की तैयारी की। उन्हें आईएस की तैयारी में काफी समय लगा। वह दो बार और सफल हो गए लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। अपनी मेहनत के दम पर वह लगातार तैयारी करते रहे। एक दिन उन्हें मेहनत के बदौलत सफलता मिल ही गई।

सबके लिए प्रेरणा बन गए श्रीनाथ –
श्रीनाथ ने साल 2018 में यूपीएससी एग्जाम क्लियर कर सभी को हैरान कर दिया था। श्री नाथ की कहानी आज लाखों लोगों को प्रेरित करती है। उनकी कहानी आज साबित करती है कि अगर हम दिल से कोशिश करें तो हमारे लिए कुछ भी मुश्किल नहीं है। मन से मेहनत करने वाले लोगों को सफलता अवश्य ही मिलती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper