दूसरी बेटी के जन्म के समय सरकार दे रही है पांच हजार रुपये, जानें क्या है स्कीम

नई दिल्ली. आज के इस आधुनिक युग में जहां तकनीक के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण खोजों को अंजाम दिया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ भारत में समाज का एक बड़ा वर्ग ऐसा भी है, जो बेटियों को लेकर नकारात्मक सोच रखता है। ऐसे में समाज के भीतर भ्रूण हत्या रोकने और बेटियों को लेकर सकारात्मकता बढ़ाने के लिए भारत सरकार विभिन्न योजनाओं का संचालन कर रही है। इन योजनाओं का उद्देश्य भ्रूण हत्या को रोकना और बेटियों के प्रति जागरूकता को बढ़ाना है। इसी सिलसिले में आज हम आपको सरकार की एक बेहद ही महत्वाकांक्षी योजना के बारे में बताने जा रहे हैं। इस स्कीम का संचालन छत्तीसगढ़ सरकार कर रही है। इस स्कीम का नाम छत्तीसगढ़ कौशल्या मातृत्व योजना है। इस योजना के जरिए सरकार लिंगानुपात में सुधार करना चाहती है। इसी कड़ी में आइए जानते हैं छत्तीसगढ़ कौशल्या मातृत्व योजना के बारे में विस्तार से

छत्तीसगढ़ कौशल्या मातृत्व योजना के अंतर्गत अगर आपके घर में पहली बेटी का जन्म होता है। ऐसे में आपको योजना का लाभ नहीं मिलेगा। इस स्कीम के तहत अगर आपके परिवार में दूसरी बेटी का जन्म होता है।

इस स्थिति में आपको सरकार पांच हजार रुपये देगी। इस योजना का लाभ आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के लोग ही उठा सकते हैं। ये योजना बेटियों के जन्म के समय उनको एक सकारात्मक बुनियाद प्रदान करने का काम करेगी। सरकार द्वारा मिलने वाली इस राशि से जन्म के समय दूसरी बेटी का पालन पोषण अच्छे ढंग से किया जा सकेगा।

इस स्कीम का लाभ छत्तीसगढ़ में रहने वाले लोग ही उठा सकते हैं। आपके घर में दूसरी बेटी का जन्म हुआ है। ऐसे में अगर आप इस स्कीम में आवेदन करने जा रहे हैं। इस स्थिति में आपके पास कुछ दस्तावेजों का होना जरूरी है।

इसमें आधार कार्ड, मूल निवास प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, बीपीएल कार्ड, आयु प्रमाण पत्र, बच्ची का जन्म प्रमाण पत्र, वोटर आईडी, ईमेल आईडी, मोबाइल नंबर जैसे दस्तावेज शामिल हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper